डॉ. अशोक कुमार भार्गव भारतीय नवजागरण के अग्रदूत, भारतीय सभ्यता संस्कृति धर्म और अध्यात्म की अनमोल विरासत को विश्व पटल पर सम्मानित करने वाले महान चिंतक स्वामी विवेकानंद युवा शक्ति के सर्वाधिक प्रेरक पुंज और अनुकरणीय आदर्श हैं। 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता में जन्मे विवेकानंद जिनका बचपन का नामREAD MORE CLICK HERE

भारत की पहली मालगाड़ी देखने उमड़ पड़ी थी भीड़ः 16 अप्रैल 1853 में मुंबई से ठाणे के बीच चली रेल, भारत की पहली यात्री गाड़ी थी लेकिन इससे करीब दो साल पहले 22 दिसंबर 1851 को भारतीय रेल का सफर, एक मालगाड़ी से शुरू हो चुका था। दो बोगियों वालीREAD MORE CLICK HERE

डिजिटल युग ने भले ही बाजार को एक नया आयाम दिया हो, लोग चांद और मंगल ग्रह पर जमीन खरीदने की बातें कर रहे हों, लेकिन प्राचीन काल से गांवों में लगने वाली साप्ताहिक हाट का महत्व जरा भी कम नहीं हुआ है। ग्रामीण हाट बाजार प्राचीन परंपराओं से जुड़ेREAD MORE CLICK HERE

Chhapra: अपने संकलन के माध्यम से छात्रों के लिये शोध की कई आवश्यक सामग्रियां छपरा शहर के काशीबाजार के रहने वाले राजेश कुमार सिंह ने तैयार की हैं. राजेश पिछले 25 वर्षों से अखबार के कतरनों का संकलन तैयार कर रहे हैं. वहीं हाल ही में उन्होंने सामान्य अध्ययन काREAD MORE CLICK HERE

‘मिसाइल मैन’ और ‘जनता के राष्ट्रपति’ जैसे नामों से मशहूर भारत के पूर्व राष्ट्रपति और सुविख्यात वैज्ञानिक रहे अबुल पकिर जैनुल आब्दीन अब्दुल कलाम (एपीजे अब्दुल कलाम) का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु स्थित रामेश्वरम के धनुषकोडी गांव में एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ। अत्यंत कठिन परिस्थितियों के बीचREAD MORE CLICK HERE

(अभिषेक) हमारी पृथ्वी हमारे सौरमंडल का एकमात्र सुंदर ग्रह है, जिसमें जीवन है। जिस धरती ने इंसानों को अपनाया, अब इंसान उसी को नस्ट करने पर तुले है। सब कुछ अब बदल गया है इंसान, और दूसरे जानवरों ने अलग तरह से व्यवहार करना शुरू कर दिया है हम नेREAD MORE CLICK HERE

(श्वेता गोयल) वर्ष 1964 में प्रधानमंत्री बनने से पहले लाल बहादुर शास्त्री विदेश मंत्री, गृहमंत्री और रेल मंत्री जैसे महत्वपूर्ण पद संभाल चुके थे। ईमानदार छवि और सादगीपूर्ण जीवन जीने वाले लाल बहादुर शास्त्री नैतिकता की मिसाल थे। जब शास्त्री जी प्रधानमंत्री बने, उन्हें सरकारी आवास के साथ इंपाला शेवरलेREAD MORE CLICK HERE

लेखनी में रुचि रखने वाली 18 वर्षीय तस्नीम कौसर की नॉवेल ‘There is Story Behind Every Story’ लोगों को खूब पसंद आ रही है. तस्नीम कौसर फिलहाल अलीगढ़ विश्वविद्यायल से 12वीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद स्नातक प्रथम वर्ष में हैं. उन्होंने छपरा के भागवत विद्यापीठ से 10वीं पासREAD MORE CLICK HERE

Chhapra: राष्ट्रीय सेवा योजना दिवस के अवसर पर जयप्रकाश विश्वविद्यालय के एनएसएस स्वयंसेवकों ने कुलपति डॉ फारूक अली के नेतृत्व में स्वच्छता अभियान चलाया. इस दौरान कार्यक्रम पदाधिकारियों एवं स्वयंसेवक,स्वयंसेविकाओं ने राजेंद्र सरोवर परिसर में स्वच्छता अभियान चलाकर विश्वविद्यालय की ओर से राष्ट्रीय सेवा योजना का स्थापना दिवस मनाया. कुलपतिREAD MORE CLICK HERE

बेगूसराय (एजेंसी): बिहार कि सांस्कृतिक, साहित्यिक और औद्योगिक राजधानी बेगूसराय ने अपनी उर्वर भूमि पर एक से एक विभूति को पैदा किया है, जो बीते और वर्तमान काल खंड में ही नहीं, भविष्य में भी सदैव याद किए जाते रहेंगे। वैसे ही विभूतियों में एक हैं राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर।READ MORE CLICK HERE

स्वयं पर विश्वास होना बेहद जरुरी है, जिन्हें स्वयं पर विश्वास होता है, वे निसंदेह ही कामयाब होते है. ऐसा मूलमंत्र देती लेखक प्रशांत सिन्हा की पुस्तक “कामयाबी के मार्ग” युवा मन को सही दिशा प्रदान करने में बेहतरीन सिद्ध हो रही है. लेखक ने इस पुस्तक के माध्यम सेREAD MORE CLICK HERE

वीर सावरकर ने जलाई विदेशी वस्त्रों की होलीः स्वतंत्रता आंदोलन में विदेशी वस्त्रों की होली जलाना एक बड़ा हथियार बना। यह स्वदेशी का शंखनाद था। वर्ष 1921 में गांधी जी के आह्वान पर बड़ी संख्या में भारतवासियों ने विदेशी कपड़ों की जगह भारतीय वस्त्र अपना लिए थे। उस साल 22READ MORE CLICK HERE