सारण में जल संचयन के लिए नहरों, पोखरों का होगा जीर्णोद्धार, घरों के छत पर Water Harvesting System होगा तैयार

सारण में जल संचयन के लिए नहरों, पोखरों का होगा जीर्णोद्धार, घरों के छत पर Water Harvesting System होगा तैयार

  • जिले में जल संचयन को लेकर DM ने की बैठक
  • नहरों, कुओं, तालाबों के जीर्णोद्धार का निर्देश
  • सरकारी भवनों के छतों पर लगेगा Water Harvesting System
  • जल संचयन के लिए नए संरचनाओं का होगा निर्माण 
Chhapra: सारण में जल शक्ति अभियान 1 जुलाई से 15 सितंबर तक चलेगा. दरसअल कम पानी वाले जिलों एवम प्रखंडो को चिन्हित कर केंद्र सरकार जल संरक्षण वाले उपायों को अपनाने के लिए जल शक्ति अभियान प्रारंभ कर रही है.इसको लेकर जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन ने जिले के पदाधिकारियों के साथ बैठक की.

बैठक में जिलाधिकारी ने छपरा नगर निगम के नगर आयुक्त को शहरी क्षेत्र में भू-जल स्तर की स्थिति अत्यन्त गंभीर देखते हुए निर्देश दिया गया कि नगर क्षेत्र में अवस्थित ऐसे सभी पोखरा / कुओं / नहर / पईन आदि की सूची तैयार कर ली जाये. जिनका जीर्णोद्वार आवश्यक है. इसके अतिरिक्त जल संरक्षण / संचयन से संबंधित नयी संरचनाओं के निर्माण के लिए अतिशीघ्र जगह चिन्हित कर लिया जाए. तथा इससे संबंधित कार्य योजना तैयार कर एक सप्ताह के अन्दर जिला ग्रामीण विकास अभिकरण, सारण में उपलब्ध कराना सुनश्चित करें.

घरों की छतों पर लगेगा Water Harvesting System
नगर आयुक्त, नगर निगम छपरा एवं सभी कार्यपालक पदाधिकारी नगर पंचायत, छपरा को यह निर्देशित किया गया कि तीन हजार वर्ग फीट से अधीक क्षेत्र में बनने वाले घरों की छतों पर Water Harvesting System तैयार कराने हेतु आमजन को जागरूक करना सुनिश्चित किया जाए. साथ ही कहा गया कि कि ऐसे सभी भवनों को चिन्हित कर सूची तैयार की जाए जिनकी छतों पर तैयार करना आवश्यक हो तथा इस सूची को जिला ग्रामीण विकास अभिकरण, सारण में उपलब्ध कराया जाय.

इसे भी पढ़े: सारण में स्कूल से लौट रही छात्रा को अगवा कर चलती कार में दुष्कर्म, एक आरोपित हिरासत में

बैठक में उपस्थित कार्यपालक पदाधिकारी, नगर पंचायत, परसा एकमा, सोनपुर, दिघवारा, मढ़ौरा एवं रिविलगंज को यह निदेशित किया गया कि अपने-अपने नगर क्षेत्र के ऐसे सभी पोखरा / कुओं / नहर / पईन आदि की सूची तैयार कर ली जाये जिनका जीर्णोद्वार आवश्यक है. साथ ही जल संरक्षण / जल संचयन से संबंधित नये संरचनाओं के निर्माण हेतु जगह चिन्हित कर लिया जाए. सभी कार्यपालक पदाधिकारी, नगर पंचायत को निदेशित किया गया कि जल संचयन / संरक्षण से संबंधित जीर्णोद्वार की कम से कम तीन-तीन योजनाओं के साथ ही नयी योजनाओं के संबंध में कार्य योजना तैयार कर एक सप्ताह के अंदर जिला ग्रामीण विकास अभिकरण, सारण में उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें.

हर जगह पेड़ लगाने का निर्देश

सभी कार्यक्रम पदाधिकारी (मनरेगा) को यह निदेशित किया गया कि प्रत्येक पंचायत में कम से कम दो – दो जल संरक्षण / संचयन से संबंधित योजनाओं को चिन्हित कर उन्हें पूर्ण कराया जाए. प्रत्येक पंचायत में कम-से-कम तीन-तीन यूनिट वृक्षारोपण कार्य कराया जाए. इस हेतु निजी / सार्वजनिक स्थलों का चयन कर इसके संबंध में कार्य योजना तैयार कर ली जाए. वृक्षारोपण के संबंध में यह निदेशित किया गया कि सरकारी संस्थाओं (प्रखण्ड परिसर, विद्यालय परिसर, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र परिसर, विद्युत उपकेन्द्र परिसर, इंजिनियरिंग कॉलेज परिसर, आई0टी0आई0 परिसर, पंचायत भवन, मंदिर / मस्जिद प्रांगण आदि) में वृक्षारोपण को प्राथमिकता देने के साथ ही निजी क्षेत्र में भी वृक्षारोपण कार्य कराना सुनिश्चित किया जाए। बैठक में उपस्थित कार्यक्रम पदाधिकारियों को यह निदेशित किया गया कि आवश्यकतानुसार जगह चिन्हित कर चेक डैम बनाने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए.बैठक के माध्यम से वन प्रमण्डल पदाधिकारी, सारण वन प्रमण्डल को यह निदेशित किया गया कि जिला में वनीकरण / वृक्षारोपन से संबंधित कार्य योजना तैयार कर जिला ग्रामीण विकास अभिकरण में उपलब्घ कराना सुनिश्चित करे.

कुओं का होगा जीर्णोद्धार

लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण प्रमण्डल छपरा :- बैठक में उपस्थित कार्यपालक अभियंता, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण प्रमण्डल छपरा को यह निर्देश दिया गया कि जिला के सभी परंपरागत कुओं को चिन्हित कर उनके जीर्णोद्वार की कार्रवाई करना सुनिश्चित की जाए. उपस्थित कार्यपालक अभियंता द्वारा यह बताया गया कि सभी सरकारी ट्यूबबेल पर सोखपीट बनाने से जल संरक्षण के कार्य में काफी मदद हो सकती है.नहर प्रमण्डल :- बैठक में उपस्थित कार्यपालक अभियंता, नहर प्र्रमण्डल को निर्देश दिया गया कि पुराने नहरों के जीर्णोद्वार के लिए कार्य योजना तैयार कर विभाग को उपलब्ध कराया जाए. इसके साथ ही नहर के पानी के अधिकतम उपयोग के लिए प्रचार – प्रसार कराना सुनिश्चित किया जाए.

मछली पालन :- बैठक में उपस्थित जिला मत्स्य पदाधिकारी द्वारा यह बताया गया कि 10 हेक्टेयर क्षेत्र में निजी भूमि पर नये पोखरा का निर्माण कार्य चल रहा है तथा 05 पोखरों का जीर्णोद्वार कराया जा रहा है. इस संबंध में यह निदेशित किया गया कि उनके विभाग से जहां जहां पोखरा निर्माण कार्य किया गया है उसकी सूची एवं संबंधित फोटो ग्राफ, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण, सारण में उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें साथ ही जल संचयन / संरक्षरण से संबंधित नयी संरचनाओं के निर्माण के संबंध में कार्य योजना तैयार कर जिला ग्रामीण विकास अभिकरण, सारण में उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें.

लघु सिंचाई- बैठक में उपस्थित कार्यपालक अभियंता, लघु सिंचाई द्वारा यह बताया गया कि सरकारी पोखरों के जीर्णोद्वार हेतु विभाग से निदेश प्राप्त है. इस संबंध में निदेशित किया गया कि सभी अंचलाधिकारियों से सरकारी पोखरों की सूची प्राप्त कर पोखरों के जीर्णोद्वार की कार्य योजना तैयार कर कार्रवाई प्रारंभ की जाए तथा कार्य योजना से अवगत कराया जाए.

जागरूकता का  कार्य

बैठक में यह निदेशित किया गया कि जल संरक्षण / संचयन के संबंध में जन जागरूकता बढ़ाने हेतु स्वयं सहायता समूहों / पंचायती राज संस्थाओं / स्वच्छाग्रहियों / नेहरू युवा केन्द्र / स्कूल के बच्चों विश्व विद्यालय एवं इंजिनियरिंग कॉलेज के छात्रों / स्थानीय छळव् को अभियान मे शामिल करना सुनिश्चित किया जाए ताकि भारत सरकार द्वारा संचालित जल शक्ति अभियान को सफल बनाते हुए भू-जल स्तर को बढ़ाया जा सके.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें