DEO कुर्सी पर संशय बरकरार, विभाग पर टिकी नज़रे

DEO कुर्सी पर संशय बरकरार, विभाग पर टिकी नज़रे

छपरा: DEO की आपसी वर्चस्व की लड़ाई में शिक्षकों का कार्य अवरुद्ध हो गया है. पेंशन और अन्य कार्यों के लिए बुधवार को जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय आये शिक्षकों को वैरन वापस होना पड़ा. क्योंकि कताकथित दो-दो DEO के अपने अपने दावे करने के कारण लिपिकों को ये समझ में नही आ रहा है कि किस पदाधिकारी का आदेश माने. एक तरफ अवधेश बिहारी द्वारा नया ISSUE Register खोला गया है और दैनिक कार्यों के निपटारा करने का दावा किया जा रहा है. जबकि दूसरे DEO अजित सिंह द्वारा आवश्यक कागजात को बंद कर दिया गया है.

दोनों DEO के आपसी टकराव को लेकर सारण जिला माध्यमिक शिक्षक संघ के जिला साचिव राजा जी राजेश ने अल्टीमेटम देते हुए कहा है कि चाहे DEO के पद पर कोई रहे शिक्षकों के कार्य को बाधित करना बर्दास्त नही की जायेगी. साथ ही श्री राजेश ने कहा है कि शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों द्वारा प्रभार को लेकर तनातनी करना कही से भी शोभनीय नही है. आला अधिकारी अपनी छवि सुधारें तभी शिक्षकों और विद्यार्थियों द्वारा सम्मान मिलेगा. 

असली DEO कौन? अजीत सिंह या अवधेश बिहारी

0Shares
Prev 1 of 245 Next
Prev 1 of 245 Next

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें