असली DEO कौन? अजीत सिंह या अवधेश बिहारी

छपरा: आखिर, वही हुआ जिसका डर था! DEO के रिटायर्ड होते ही हाई वोल्टेज ड्रामे का श्री गणेश हो चुका है. DPO अजीत और अवधेश दोनों अपने-अपने दावे के साथ DEO मान रहे है. एक तरफ जहां  MDM DPO अवधेश बिहारी वरीय होने के कारण स्वतः प्रभार लेने की बात कर रहे है. वहीं रिटायर्ड DEO चन्द्र किशोर प्रसाद यादव RMSA DPO अजीत सिंह को DEO का प्रभार दे चुके है.

निवर्तमान DEO श्री यादव का कहना है कि जब योजना एवं लेखा का प्रभार लेने की बात आई तो अवधेश बिहारी ने यह कह कर इनकार कर दिया कि मै इसी माह 30 नवम्बर को ही रिटायर्ड कर रहा हूँ. इसलिए अतिरिक्त प्रभार लेने में असमर्थ हूँ. इस कारण जिले के एक मात्र DPO अजीत सिंह को ही प्रभार देना नियम सांगत है. वहीं अवधेश बिहारी RDDE के पत्र का हवाला देकर सोमवार देर शाम स्वतः प्रभार ले लिए. मंगलवार को अवकाश होने के कारण ये पता नही चल पाया कि असली DEO कौन है? बुधवार के दिन DEO की कुर्सी को लेकर घमासान मचना लाजमी है.

ज्ञातब्य हो कि एक माह पूर्व DEO पद को लेकर अवधेश बिहारी एवं चन्द्र किशोर यादव में शीत युद्ध चलता रहा. अंततः विभाग के निर्देश पर चंद्रकिशोर प्रसाद यादव ही DEO पद पर आसीन हुए थे. इधर अजीत सिंह एवं अवधेश बिहारी दोनों अपने आप को पाक-साफ़ बता रहे है जबकि सच्चाई यह है कि अजित सिंह पर MDM में गड़बड़ी का धब्बा लगा हुआ है और अवधेश बिहारी पर हेडमास्टर प्रमोशन का लेकर विवादित है.

0Shares
A valid URL was not provided.