हमारा एक ही मंत्र है विकास: मोदी

हमारा एक ही मंत्र है विकास: मोदी

मढ़ौरा: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आईटीआई मैदान में आयोजित चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि नवरात्र के बाद बिहार की जनता का आशीर्वाद लेने का सौभाग्य एक बार फिर मिला है। उन्होंने रैली में भीड़ को देखते हुए कहा कि यह चुनावी रैली नही, रेला भी नही परिवर्तन के संकल्प का मेला लग रहा है. उन्होंने कहा कि यहाँ दिख रहा है कि 8 नवम्बर को बिहार की दिवाली कैसी मनेगी। यह चुनाव बिहार के लिए दो-दो दिवाली लेकर आया है और छोटी दिवाली की शुरुआत हो चुकी है। उन्होंने लद्दाख में हुए स्थानीय निकाय चुनाव का जिक्र करते हुए कहा कि वहां 90 प्रतिशत अल्पसंख्यक और बहुमत बीजेपी को मिली। कांग्रेस के 22 सदस्य थे जनता ने उन्हें साफ़ कर दिया और वह अब 5 पर आ गए। उन्होंने कहा कि जब लद्दाख में बर्फ गिरता है तो बिहार में ठण्ड शुरू हो जाती है उसी तरह लद्दाख की हवा बिहार का माहौल बना रही है एनडीए की जीत पक्की है। मोदी ने कहा कि आपके इस प्रेम ने मुझे जीत लिया है, अपना बना लिया है,  इस प्यार को ब्याज  समेत विकास करके लौटाऊंगा।

प्रधानमंत्री ने नौजवानों से कहा कि जब मै 2019 में वोट मांगने आऊंगा तो मुझे पांच सालों का हिसाब देना होगा। ठीक उसी तरह आपको भी महागठबंधन के लोगों से उनके किये गये कार्यों का जबाब मांगना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने अपने भाषण की शुरुआत भोजपुरी में की और जय प्रकाश नारायण, राजेंद्र प्रसाद, गोरख प्रसाद, भिखारी ठाकुर को याद किया। गढ़ देवी को नमन किया।

‘महागठबंधन’ को ‘महास्वार्थबंधन’ बताया

मोदी ने कहा कि  ‘महास्वार्थबंधन’में  पहले तीन लोग थे, बड़े भाई, छोटे भाई और मैडम पर अब चार हो गए है।  बड़े भाई, छोटे भाई, मैडम और तांत्रिक। उन्होंने RJD को राष्ट्रीय जादू टोना दल बताया।

लालू-नीतीश पर जमकर हमला बोला

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम विकास की बात करते है वो केवल मोदी की बात करते है। सीवान और बगल के इलाकों की टिकट जेल में से बांटी जाती है। प्रधानमंत्री ने लालू-नीतीश को छोटा भाई और बड़ा भाई बताते हुए कहा कि उन्होंने मिलाकर 25 साल राज किया उनको काम का हिसाब देना चाहिए। आधा चुनाव ख़त्म हो चूका है उन्होंने क्या हिसाब दिया है, यह लोकतंत्र का अपमान है। उन्होंने कहा की लालू और नीतीश  के दिन समाप्त हो चुके है। वह दिन गया जब आप भावना भड़काते थे। बिहार का नौजवान और उसका ज़मीर जाग चूका है। अब नौजवानों के भविष्य को कुचल नहीं पाएंगे। उन्होंने व्यंग के अंदाज में कहा कि माननीय नीतीश और सबसे बड़े तांत्रिक लालू यादव ने बिहार के नौजवानों को बाहर जाने को मजबूर किया। बिहार में पलायन बढ़ा है कोई नौजवान अपने यार-दोस्त, बूढ़े माँ-बाप को छोड़ के घर से दूर काम करने नहीं जाना चाहता। लेकिन पेट के लिए जाना पड़ता है। modi ने कहा कि दोनों भाई ने मिलकर 25 साल में दो पीढ़ियों को बर्बाद कर दिया है। एक समय था जब बिहार को औधोगिक नगरी के रूप में जाना जाता था। यहाँ का चॉकलेट हिन्दुस्तान भर के लोग खाते थे। इसको किसने बंद किया। उन्होंने कहा कि यदि 25 सैलून में यहाँ बिजली पहुंचती  तो कारखाना बंद नही होता। इनको सिर्फ परिवार की चिंता है जनता की नहीं। बिहार के सबसे ज्यादा गाँव में बड़े भाई-छोटे भाई के कुशासन के कारण अब तक बिजली नहीं पहुंची है। हम बिजली पहुँचाना चाहते है। जिसके लिए भूटान से जल बिजली के लिए समझौता भी हुआ है।

बिहार के लिए 6 सूत्रीय कार्यक्रम
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारा एक ही मंत्र है विकास, विकास और सिर्फ विकास। हर समस्या की एक दवा विकास  ही है। उन्होंने  छः बातों पर विशेष बल देने की बात करते हुए कहा कि नौजवानों को शिक्षा, रोजगार और बुजुर्गों को दवाई। भारत का मार्ग दर्शन करने वाले प्रदेश बिहार के लिए बिजली, सड़क और पानी। नई सरकार के बनते ही कमेटी गठन कर यहाँ कारखानों को शुरू करने की पहल की जायेगी।

भारत को आगे बढ़ना है तो पूर्वी भाग को आगे बढ़ाना होगा। पश्चिम के राज्य आगे बढ़ रहे है वैसे ही बिहार, बंगाल, झारखण्ड को आगे बढ़ाना होगा। भारत की दूसरी हरित क्रांति की शुरुआत बिहार से होगी। मढ़ौरा में बनने वाले डीजल लोकोमोटिव से युवाओं को रोजगार के नए अवसर मिलेंगे। इसका काम जल्द ही पूरा कर लिया जायेगा।

इसके पूर्व केन्द्रीय मंत्री व् छपरा के सांसद राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि हमे चीनी मिल का सायरन वापस चाहिए। यहाँ के लाखों लोगों को रोज़गार देने वाले फैक्टरी को आप पुनः खुलवाएंगे ऐसी यहाँ के लोगों की अपेक्षा है।  लाखों नौजवानों का आप पर विश्वास है। जिस तरह पश्चिम में सूरज का डूबना तय है वैसे ही महागठबंधन का ढलना तय है और  सूरज जैसे उगता है वैसे ही एनडीए का बिहार में उगेगा।

सभा को सारण जिले के दस विधानसभा के एनडीए प्रत्याशियों ने भी संबोधित किया।

पीएम मोदी को एक झलक देखने के लिए बेचैन दिखे कार्यकर्त्ता

रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक झलक देखने के लिए कार्यकर्त्ता आसपास के बिल्डिंगों, पेड़ यहाँ तक कि होर्डिंग के लिए लगायी गयी बांस पर चढ़ गए। हालाँकि कई बार मंच से इन्हें नीचे उतरने का निवेदन किया गया, यहाँ तक की खुद प्रधानमंत्री ने भी कहा। पर कार्यकर्त्ता मानने को तैयार नहीं थे।

पेड़ पर चढ़े कार्यकर्त्ता
पेड़ पर चढ़े कार्यकर्त्ता

 

 

बांस पर चढ़े कार्यकर्त्ता
बांस पर चढ़े कार्यकर्त्ता

सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त

रैली में सुरक्षा को लेकर जगह जगह बेरिकेडिंग की गयी थी। मेटल डिटेक्टर से चेकिंग की जा रही थी। आने जाने वाले एक-एक लोगों पर नज़र रखी जा रही थी।

वीडियो देखने के लिए यहाँ देखे

 

 

 

0Shares

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें