अटल बिहारी वाजपेयी की ख्याति राष्ट्र के सर्वमान्य नेता के रूप में है: सिग्रीवाल

अटल बिहारी वाजपेयी की ख्याति राष्ट्र के सर्वमान्य नेता के रूप में है: सिग्रीवाल

Jalalpur: अटल जी देश के आगे किसी से समझौता नहीं करते थे, उनके लिए पार्टी और व्यक्ति से बढ़कर राष्ट्र हित सर्वोपरि था उक्त बातें महाराजगंज के सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तीसरी पुण्यतिथि पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में अपने आवास पर कहा.

उन्होंने कहा कि राष्ट्र के सर्वमान्य नेता के रूप में उनकी ख्याति है. वह पक्ष में या विपक्ष में सब उनकी बातों को सुनने के लिए तत्पर रहते थे. चाहे आम सभा, सामान्य सभा या लोकसभा सब उनकी बातों से सीखना चाहते थे. वे विपक्ष में हो या प्रधानमंत्री के पद पर उनकी ख्याति अलग थी. देश के नवनिर्माण में उन्होंने एक से एक आधारशिला रखने का काम किया है. चाहे वह पोखरण का परमाणु परीक्षण हो जिसके द्वारा उन्होंने दुनिया में एक संदेश दिया कि भारत अब किसी से कम नहीं. भारत अब दुनिया के शक्तिशाली देशों के श्रेणी में खड़ा है.

उन्होंने प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना, सर्व शिक्षा अभियान, स्वर्णिम चतुर्भुज योजना, देश के चहुंमुखी विकास की कई योजनाएं, गांव में काली पक्की सड़को की योजनाएं ऐसी लोकप्रिय थी कि पक्ष या विपक्ष किसी ने उनकी योजना को काटने का हिम्मत नहीं किया. वे देश के लिए जीते थे तथा देश के लिए उन्होंने अपनी अंतिम यात्रा भी की. पड़ोसियों के साथ भी मित्रवत व्यवहार रखना चाहते थे. उन्होंने पाकिस्तान के साथ समझौता बस चलाने का काम किया. अगल-बगल के पड़ोसी देशों से लेकर बाहर के देशों तक भी मित्रवत व्यवहार बनाए रखने का काम किया.

आज भारत के प्रधानमंत्री भी उन्हीं के रास्तों को आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं. उनके लिए देश सर्वोपरि था. वे न हार में न जीत में विश्वास करते थे उनके लिए कभी कोई कभी गम नहीं था.

उन्होंने अटल जी के तैल चलचित्र पुष्प अर्पित कर नमन करते हुए कहा कि उनसे सीख ले कर उनके पद चिन्हों पर चलने का काम सभी करें.

उन्होंने कहा कि आज के राजनीतिज्ञ लोग उनसे सीख लेने का काम करें. उन्होंने जिस तरह से भारतीय राजनीति में अपनी अलग पहचान बनाई थी वह सबके लिए अनुकरणीय है.

वही मांझी विधानसभा के युवा नेता प्रमोद सिग्रीवाल ने कहा कि अटल जी की गिनती देश के सियासत के उन नेताओं में होती है जो कभी दलगत राजनीति के बंधन में नहीं बंधे. उन्हें हमेशा ही सब पार्टियों से भरपूर प्यार व स्नेह मिला. उन्होंने देश के विकास के लिए कई ऐतिहासिक कार्य किए. अटल जी जैसे महापुरुष सदियों तक याद किए जाएंगे.

मौके पर मंडल अध्यक्ष ढुनमुन सिंह, उमेश तिवारी, उमाशंकर भगत, उमाकांत पांडेय, मिथिलेश पासवान, गुड्डू चौधरी, धूपन सिंह सहित कई अन्य लोग भी थे.

0Shares
[sharethis-inline-buttons]

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें