एनिमिया मुक्त भारत के निकाली गयी जागरूकता रथ, 5 दिनों तक चलेगा अभियान

एनिमिया मुक्त भारत के निकाली गयी जागरूकता रथ, 5 दिनों तक चलेगा अभियान

• केयर के सहयोग से शुरू हुआ अभियान
• जिले के सभी प्रखंडों में निकाली गयी जागरूकता रथ
• घर-घर जाकर एनिमिया से बचाव की दी जायेगी जानकारी
Chhapra:  जिले के सभी प्रखंडों में एनिमिया मुक्त भारत कार्यक्रम के तहत जागरूकता रथ निकाली गयी। जागरूकता रथ को प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यहां बता दें कि यह अभियान केयर इंडिया के सहयोग से शुरू किया गया। 26 सितंबर से लेकर 30 सितंबर तक चलेगा।

जागरूकता रथ के द्वारा गांव-गांव में जाकर महिलाओं-पुरूष व किशोर-किशोरियों को एनिमिया से बचाव के बारे में जानकारी दी जायेगा। जागरूकता रथ के बैनर पर कई स्लोगन लिखे गये हैं। जिसमें मां बच्चों को स्वस्थ बनाना है, एनीमिया दूर भागना है.. आईएफए की गोली खाना है एनिमिया मुक्त भारत बनाना है आदि स्लोगन के साथ जागरूकता रथ क्षेत्र भ्रमण करेगी। इस दौरान जगह-जगह महिलाओं को इससे बचाव की जानकारी दी गई। परियोजना के प्रखंड समन्वयक आशा सिंह ने बताया कि सामूहिक प्रयासों की बदौलत ही एनीमिया पर नियंत्रण संभव है। इस अवसर केयर इंडिया के डीटीओ प्रवण कुमार कमल ने बताया कि आपसी समन्वय बनाते हुए व्यापक जागरुकता अभियान चला कर एनीमिया पर नियंत्रण की अपील की जा रही है। थोड़ी सी भी जानकारी हमें बड़ी परेशानियों से मुक्ति दिला सकती है। जागरूकता के जरिए हम एनीमिया से बचाव कर सकते हैं।
पांच दिनों तक चलेगा अभियान
यह अभियान जिल के सभी प्रखंडों में पांच दिनों तक चलेगा। इस दौरान जागरूकता रथ गांव-गांव व घर-घर जाकर महिला-पुरूष व किशोर-किशोरियों को एनिमिया के बचाव के बारे में जानकारी दी जायेगी। जिले के20 प्रखंडों में केयर के द्वारा यह अभियान शुरू की गयी है।

एनिमिया बिमारी नहीं, बल्कि एक अवस्था है: सिविल सर्जन
सिविल सर्जन डॉ. माधवेश्वर झा ने बताया कि एनीमिया एक ऐसी स्थिति है, जिसमें एक व्यक्ति की सामान्य से कम लाल रक्त कोशिकाएं होती हैं या हीमोग्लोबिन की कम मात्रा होती है। इससे खून के द्वारा शरीर के विभिन्न अंगों तक ऑक्सीजन ले जाने की क्षमता कम हो जाती है और कई स्वास्थ्य समस्याएं पैदा होती हैं। कई मामलों में मृत्यु तक हो जाती है। जिस देश में 40 फीसद से अधिक आबादी एनीमिया से ग्रसित हो, तो यह एक गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या तो है ही।

एनिमिया मुक्त भारत का लक्ष्य
हालांकि स्वास्थ्य मंत्रालय ने एनीमिया को पूरी तरह से खत्म करने का लक्ष्य रखा है। दुनिया भर में एनीमिया का सबसे आम कारण पोषक तत्वों की कमी है। भारत में पोषण संबंधी कमी से संबंधित एनीमिया के लगभग आधे मामलों में कारण, कम आयरन अन्तर्ग्रहण करना है।

0Shares
Prev 1 of 225 Next
Prev 1 of 225 Next

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें