यादगार भूमिकाओं की बदौलत अमर रहेंगे अमरीश पुरी

यादगार भूमिकाओं की बदौलत अमर रहेंगे अमरीश पुरी

हिंदी सिनेमा में खलनायक की भूमिका निभा कई कलाकार मशहूर हुए लेकिन आज भी उनमें अमरीश पुरी का नाम सबसे ऊपर आता है। दिवंगत अभिनेता अमरीश पुरी आज बेशक हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन वे अपनी यादगार भूमिकाओं की बदौलत हमेशा अमर रहेंगे।

अमरीश पुरी का जन्म 22 जून, 1932 को पंजाब में हुआ। उन्होंने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत साल 1971 में ‘प्रेम पुजारी’ से की थी। 1980 के दशक में उन्होंने बतौर खलनायक कई बड़ी फिल्मों में अपनी छाप छोड़ी। 1987 में फिल्म ‘मिस्टर इंडिया में मोगैंबो की भूमिका के जरिए वे घर-घर में मशहूर हो गए। लेकिन 1990 के दशक में उन्होंने फिल्म दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे, घायल और विरासत में करेक्टर रोल के जरिए भी सभी का दिल जीता।अमरीश पुरी ने लगभग 400 फिल्मों में काम किया था। लेकिन ब्लड कैंसर की वजह से 12 जनवरी, 2005 को 72 वर्ष की उम्र में अमरीश पुरी का निधन हो गया था। उनकी पुण्यतिथि पर हम अपने पाठकों को बता रहे हैं उनकी कुछ यादगार भूमिकाओं के बारे में।

बाबा भैरोनाथ : साल 1986 में श्रीदेवी और ऋषि कपूर की फिल्म ‘नगीना’ में अमरीश पुरी ने एक तांत्रिक का किरदार निभाया था। फिल्म में उनके किरदार का नाम बाबा भैरोनाथ था। इस फिल्म में उनके किरदार और अभिनय को दर्शकों ने काफी पसंद किया।

मोगैंबो : साल 1987 में आई फिल्म ‘मिस्टर इंडिया’ में मोगैंबो के किरदार को कौन भूल सकता है। अनिल कपूर और श्रीदेवी अभिनीत इस फिल्म में अमरीश पुरी मोगैंबो के किरदार में नजर आये थे। इस फिल्म में उनका मशहूर डायलॉग’ मोगैंबो खुश हुआ’ आज भी हर किसी के जुबान पर अक्सर सुनने को मिल जाता है। इस फिल्म में उनके गेटअप और किरदार को दर्शकों ने बेहद पसंद किया।

जनरल डॉन्ग: साल 1992 में आई मल्टी स्टारर फिल्म ‘तहलका’ में अमरीश पुरी ने अपने अभिनय से सबकी खूब वाहवाही लूटी। इस फिल्म में वह जनरल डॉन्ग की भूमिका में थे। धर्मेंद्र, नसीरुद्दीन शाह, मुकेश खन्ना, आदित्य पंचोली, इच्छा स्वरूप, पल्लवी जोशी आदि के अभिनय से सजी इस फिल्म में अमरीश पुरी विलेन की भूमिका में आइलैंड डॉन्गरीला में अपना अलग साम्राज्य बसाते नजर आये थे। इस फिल्म में अमरीश पुरी का डायलॉग डॉन्ग कभी रॉन्ग नहीं होता काफी फेमस है।

राजा साहब: राकेश रोशन के निर्देशन में बनी फिल्म ‘कोयला’ में अमरीश पुरी ने नेगेटिव रोल निभाया था। इस फिल्म में राजा साहब के किरदार में अमरीश पुरी को काफी पसंद किया। इस फिल्म में अमरीश पुरी ने अपने लुक और एक्टिंग से खूब सुर्खियां बंटोरी थी।

चौधरी बलदेव सिंह: फिल्म ‘दिल वाले दुल्हनिया ले जायेंगे’ में पिता चौधरी बल्देव सिंह के किरदार निभाकर उन्हें दर्शकों के दिलों में अपनी अलग ही पहचान बनाई। फिल्म में वह जहां ‘ऐ मेरी जोहरा जबी’ गाकर अपनी बीबी से रोमांस करते नजर आये तो वहीं एक कड़क पिता अपनी बेटी सिमरन को उसकी जिंदगी जीने की आजादी भी देता है। फिल्म में उनका डायलॉग ‘जा सिमरन जा, जी ले अपनी जिंदगी’ आज भी फेमस है

इसके अलावा अमरीश पुरी ने करण-अर्जुन, घायल, फूल और कांटे, विश्वात्मा, दामिनी, परदेस, गदर-एक प्रेम कथा, ऐतराज, मुझसे शादी करोगी आदि कई फिल्मों में अपने अभिनय की अमिट छाप छोड़ी है, जो आज भी दर्शकों के दिलों में जीवित है।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें