विश्वविद्यालय से विद्यालय तक वेतन के इंतजार में है शिक्षक: महाचंद्र सिंह

विश्वविद्यालय से विद्यालय तक वेतन के इंतजार में है शिक्षक: महाचंद्र सिंह

छपरा: राज्य के विकास में शिक्षा और शिक्षकों की भूमिका अहम् होती है लेकिन सूबे की सरकार में इन दोनों का बुरा हाल है. गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की बात तो मुख्यमंत्री जी करते है लेकिन विद्यालय की गुणवत्ता पर ध्यान नही दिया जाता. उक्त बातें स्थानीय परिसदन में आयोजित संवाददाता सम्मलेन को संबोधित करते हुए डॉ महाचंद्र प्रसाद सिंह ने कही.

उन्होंने कहा कि सूबे की सरकार के चलते प्राथमिक से लेकर उच्च शिक्षा तक धराशायी हो गयी है. विश्वविद्यालय से लेकर विद्यालय तक के शिक्षक वेतन की बाँट जोह रहे है. उन्होंने उच्च शिक्षा पर सरकार को घेरते हुए कहा कि राजेंद्र महाविद्यालय में कई विषय के शिक्षक नही है. जिससे छात्रों की परेशानी बढ़ रही है. यह एक अकेला महाविद्यालय नही है. छपरा के अलावे कई जिले के महाविद्यालयों में शिक्षकों के नही रहने से छात्र नामांकन तक ही सिमित रह जाते है. उन्होंने अपने प्रतिद्वदियों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि कुछ लोग हमे बाहरी कहते है लेकिन उन्हें नही मालूम कि मेरा पालन-पोषण, शिक्षा-दीक्षा इसी धरती पर हुआ है.

सारण स्नातक क्षेत्र के मतदाता काम देखकर मतदान करते है. जिसके कारण मै यहाँ 36 वर्षों से विजयी होता रहा हूँ. सारण स्नातक क्षेत्र राज्य का एक मात्र ऐसा क्षेत्र है, जहां 6 बार लगातार कोई विधान पार्षद रहा है. यह मतदाताओं का प्यार है, जो हमेशा मुझे मिलता रहा है. यहां के लोग सोंच समझकर प्रतिनिधि बनाते है क्योंकि मै जाति और पार्टी की राजनीति नही करता. उन्होंने कहा कि यह मेरा सातवा चुनाव है. मतदाताओं में उत्साह है और वह मुझे कार्यों की बदौलत अपना मत देंगे.

0Shares
Prev 1 of 245 Next
Prev 1 of 245 Next

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें