नव वर्ष के आगमन पर काठ की देवी मंदिर में सामूहिक हनुमान चालीसा पाठ का हुआ आयोजन

Chhapra: स्थानीय काठ की देवी माता भुवनेश्वरी देवी जी के मंदिर से जलभरी यात्रा निकाली गई। सनातन हिंदू नव वर्ष संवत्सर 2081का आगमन सामूहिक पूजा पाठ से प्रारंभ किया गया। लगभग 400 वर्षों पुरानी मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया । माता भुवनेश्वरी देवी के दर्शन मात्र से आपकी मनोकामना पूर्ण होती है ।

इस अवसर पर नव वर्ष शुक्ल प्रतिपदा को जल -भरी यात्रा बाजे गाजे के साथ निकल गई जो गुदरी राय चौक सत्यनारायण मंदिर सांवलिया मंदिर लक्ष्मी नारायण मंदिर होते हुए छपरा शहर के प्रधान धर्मनाथ मंदिर तक गई। धर्मनाथ मंदिर में पूजन कर नव वर्ष का स्वागत सामूहिक हनुमान चालीसा पाठ के साथ किया गया।

इस अवसर पर धर्म प्रसार जिला प्रमुख विश्व हिंदू परिषद अरुण पुरोहित ने महामंत्र श्री राम जय राम जय जय राम के पाठ के साथ शुरुआत की नव वर्ष के विषय में माताओं एवं बहनों को जानकारी दी ।

ब्रह्मा के सृष्टि का प्रथम दिन आज कृष्ण पक्ष प्रतिपदा तिथि के दिन सनातन धर्मावलंबी नववर्ष के रूप में मनाते हैं । अपने घरों पर भगवान ध्वज फहराएं संध्याकालीन कम से कम पांच पांच दीप अपने घरों और घर के पास मंदिरों में प्रज्वलित कर उत्सव मनावें। घर पर नाना प्रकार के व्यंजन बनाकर भगवान को भोग लगावे और प्रसाद पावें। अपने बच्चों और कुटुंब को नव वर्ष के बारे में बताएं ।

9 अप्रैल से 17 अप्रैल तक भगवान राम का जन्म उत्सव मनावें। नव वर्ष के रोज दीप प्रज्वलित करने से घर में सुख शांति और समृद्धि की प्राप्ति होती है आपकी काया (शरीर) निरोग रहती है। इस अवसर पर हजारों की संख्या में महिलाएं पुरुष एवं बच्चों ने भाग लिया।

0Shares
A valid URL was not provided.