मुख्यमंत्री ने Video Conferencing से सारण के दो क्वारेंटीन केन्द्रों में आवासित प्रवासियों से किया सीधा संवाद, लिया फीडबैक

मुख्यमंत्री ने Video Conferencing से सारण के दो क्वारेंटीन केन्द्रों में आवासित प्रवासियों से किया सीधा संवाद, लिया फीडबैक

Chhapra: सारण जिला के दो क्वारेंटीन केन्द्रों में आवासित प्रवासियों से शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीधा संवाद किया. मुख्यमंत्री ने उनका हाल-चाल जाना. साथ-साथ उपलब्ध करायी गयी व्यवस्थाओं के संबंध में फीड बैक लिया.

गड़खा के प्रखंड स्तरीय क्वारेंटीन केन्द्र मध्य विधालय चैनपुर भैंसवारा एवं रिविलगंज प्रखंड के राजकीय मघ्य विधालय सेमरिया पूर्वी में रह रहे प्रवासी श्रमिकों से मुख्यमंत्री ने जानकारी ली. मुख्यमंत्री ने क्वारेंटीन केन्द्र पर रह रहे प्रवासियों से पूछा कि वे लोग कहाँ से आये हैं, वहाँ क्या करते थे. यहाँ आकर उन्हें कैसा लग रहा है.

वही मध्य विधालय चैनपुर भैंसमारा, गड़खा में रह रहे प्रवासी श्रमिक पिन्टू कुमार माँझी ने कहा कि वे 14 मई को श्रमिक स्पेशल ट्रेन से मुंबई से यहाँ आये हैं. स्टेशन पर स्क्रीनिंग हुयी, खाने का पैकेट और पानी बोतल दिया गया. निबंधन प्रक्रिया पूरी होने के बाद मध्य विधालय चैनपुर, भैंसवारा लाया गया. उन्होंने बताया कि यहाँ की व्यवस्थाएं बहुत अच्छी है. समय पर खाना, नाश्ता मिल रहा है. मेस कमिटी बनी हुयी है। हम लोगों के सुझाव पर साप्ताहिक मेन्यू चार्ट बना हुआ है. उसी के अनुसार खाना खिलाया जा रहा है.

पंजाब के पटियाला शहर से आये सोनू कुमार ने बताया कि वे वहाँ आइसक्रिम फैक्ट्री में कार्य करते थे. उन्होंने मुख्यमंत्री को इस बात के लिए धन्यवाद दिया कि सरकार के द्वारा प्रवासी श्रमिकों के लिए स्थानीय स्तर पर हीं रोजगार की व्यवस्था करने का प्रयास किया जा रहा है.

रिविलगंज के क्वारेंटीन केन्द्र के एक युवक ने बताया कि वह मुंबई में इलेक्ट्रीशियन का कार्य करते थे, वहीं रेवाड़ी, हरियाणा से आयी एक महिला ने कहा कि अब हमलोग बाहर नही जाना चाहते है. यहाँ कि सभी व्यवस्थाएं अच्छी है. इस पर मुख्यमंत्री ने प्रसन्नता प्रकट की.

रिविलगंज केन्द्र पर अपर समाहर्त्ता डॉ गगन के द्वारा मुख्यमंत्री को वहाँ की व्यवस्था के बारे में बताया गया.

इसके पूर्व जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन द्वारा मुख्यमंत्री को बताया गया कि कैम्पों में रह रहे लोगों का स्किल मैपिंग कराया जा रहा है. जिनका खाता बिहार में नही है उनका खाता खुलवाया जा रहा है. अभी तक 4000 प्रवासी श्रमिकों को जॉब कार्ड बनवाया गया है. मध्य विधालय चैनपुर भैंसवारा केन्द्र की कुल क्षमता 110 है जिसमें अभी 102 लोग यहाँ आवासित है. यहाँ भी 70 लोगों का जॉब कार्ड बनाया गया है. 43 लोगों का खाता भी खुलवाया गया है.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें