अंतरिम बजट: किसी ने सराहा तो किसी ने नाकारा

अंतरिम बजट: किसी ने सराहा तो किसी ने नाकारा

Chhapra: संसद में शुक्रवार को कार्यवाहक वित्त मंत्री पियूष गोयल ने मोदी सरकार का अंतरिम बजट पेश किया. बजट के बाद सारण में लोगों की प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है. एक ओर जहाँ पक्ष के लोग इसकी सराहना कर रहे है वही दूसरी ओर विपक्ष के लोग इस बजट को नकार रहे है और इसे जनता से धोखा बता रहे है.

बजट के पक्ष में 

इसे भी पढ़े:  UnionBudget2019: आम करदाता को बड़ी राहत, अब 5 लाख तक के आय पर नहीं लगेगा टैक्स

धर्मेंद्र सिंह चौहान

भाजपा के जिला प्रवक्ता धर्मेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि मोदी सरकार के इस बजट से समाज के सभी वर्गों को फायदा हुआ है. 

 

 

 

शांतनु सिंह

भाजपा नेता शांतनु सिंह ने बजट को जनता के हित में सरकार के प्रयासों को प्रदर्शित करने वाला बताया. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार सबका साथ सबका विश्वास पर विश्वास करती है.

 

 

संतोष कुमार महतो

जदयू नेता संतोष कुमार महतो ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि मोदी सरकार ने देश भर के विभिन्न गांवो में डिजिटल विलेज बनाने का ऐलान किया है, जो एक बेहतर कदम है. उन्होंने कहा कि इस बजट में पशुपालन मछली पालन आदि के लिए भी ध्यान दिया गया है. उन्होंने अपने आप में बजट को ऐतिहासिक बताया.

 

 

प्रो डॉ सुरेंद्र मिश्र

राजेंद्र कॉलेज के अर्थशास्त्र विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष व अर्थशास्त्री प्रो डॉ सुरेंद्र मिश्र ने कहा कि इस बजट के जरिए मोदी सरकार ने किसानों को लिए एक अच्छा कदम उठाया है. जिन किसानों के पास जमीन है उन्हें सरकार साल में 6 हज़ार दे रही है. लेकिन भूमिहीन किसानों के लिए भी सरकार कुछ सोचना चाहिए था. साथ ही उन्होंने कहा कि बजट में सरकार को आयकर की सीमा 8 लाख तक करनी चाहिए थी.

 

श्याम बिहारी अग्रवाल

आम बजट का थोक वस्त्र व्यवसायी श्याम बिहारी अग्रवाल ने स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि आयकर में पाँच लाख तक की छूट दी गई है. साढ़े छः लाख तक के इन्वेस्टमेंट पर आयकर मुक्त कर दिया गया हैं. चालीस हजार तक के ब्याज पर कोई टैक्स नहीं कटेगा. अतः कुल मिलाकर आम बजट आम आदमी का बजट हैं.

 

 

बजट के विपक्ष में 

इसे भी पढ़े: बजट पर बोले राजद नेता- मोदी सरकार ने जनता को ठगा

जितेन्द्र राय

बजट पर मढौरा विधायक जितेन्द्र राय ने कहा कि मोदी सरकार ने जनता को ठगा है. यह सरकार का अंतरिम बजट नहीं बल्कि अंतिम बजट था. यह बजट गुमराह करने वाला है. 

 

 

जिलानी मोबिन

बजट पर राजद जिलाध्यक्ष जिलानी मोबिन ने कहा कि मोदी सरकार का जुमला है. जो काम 5 साल में नहीं हुआ 3 महिना में कैसे होगा. किसानों को 6 हज़ार सालाना केवल छलावा है. जनता मुहतोड़ जबाब देगी. 

 

 

नदीम अख्तर अंसारी

कांग्रेस के नदीम अख्तर अंसारी ने कहा कि ये एक ख्याली और पूरी तरिके से चुनावी बजट है. जो काम चार सालों में नहीं कर सकते उसे अपने खोखले वादों से जनता को गुमराह करने की कोशिश की जा रही है. जहां एक तरफ देश के लाखों युवाओं को बेरोजगार कर दिया है. वहीं अब उसे टैक्स में छूट देने का नाटक कर रहे हैं. आंटा से गरीबों का पेट भरता है डाटा से. डाटा से केवल मोदी जी के चंद मित्रों का भला हो सकता है आम जनता को नहीं.

 

डॉ अशोक कुशवाहा

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी सारण जिला अध्यक्ष डॉ अशोक कुशवाहा ने केंद्र सरकार द्वारा पेश किए अंतरिम बजट को निराशाजनक बताया है. उन्होंने कहा कि बजट में कुछ भी ऐसा नहीं है जिससे गरीब, किसान, मजदूर को राहत मिले. यह बजट गरीब मजदूर व किसान विरोधी है एवं बड़े लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए बनाई गई है.

 

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें