करिंगा स्थित डच मकबरा को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की पहल

करिंगा स्थित डच मकबरा को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की पहल

Chhapra: सारण जिला मुख्यालय छपरा के पश्चिमी छोर पर राष्ट्रीय राजमार्ग 331 पर करिंगा गाँव में डच मकबरा अवस्थित है. ऐतिहासिक रिकॉर्ड के अनुसार, यह स्थान 1770 तक डच के नियंत्रण में था. यह स्थान यूरोपीय व्यापारियों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा. उस अवधि के दौरान डच गवर्नर जैकवॉर्न का कब्रिस्तान यहाँ बनाया गया था जो आज भी खंडहर के रूप में मौजूद है.

जिले में आध्यात्मिक और ऐतिहासिक महत्व के कई अन्य स्थान हैं जो कई घोषणाओं के बावजूद उपेक्षित बने हुए हैं. अब सारण के नए जिलाधिकारी डॉ नीलेश रामचंद देवरे ने एक बार फिर से अपनी ओर से इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कराने के प्रयास किये है.

जिलाधिकारी ने इस पुरातात्विक और ऐतिहासिक महत्व के स्थान का दौरा किया और वस्तुस्थिति को जाना. अपनी ओर से पहल करते हुए जिलाधिकारी ने नीदरलैंड के राजदूत, विदेश मंत्रालय को इस धरोहर के बारे में अवगत कराया है. जिससे की उन्हें भी इसकी जानकारी मिल सके और इसको पर्यटन स्थल के रूप में विकसित कर जिले में पर्यटन का विकास हो सके.

जिलाधिकारी ने अपने ट्वीटर के माध्यम से सभी तक जानकारी पहुंचाई है और इस दिशा में अपनी ओर से जरुरी प्रयास करने का भरोसा दिया है.

इस स्थान के पुरातात्विक और ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए राज्य के पर्यटन विभाग ने तत्कालीन जिलाधिकारी दीपक आनंद के प्रस्ताव को चार वर्ष पूर्व मंजूरी दी थी. परन्तु किन्ही कारणों से यह कार्य अब तक शुरू नहीं हुआ है.

आपको बता दें कि सारण के नए जिलाधिकारी डॉ नीलेश रामचंद देवरे पदभार ग्रहण के बाद से लगातार जिले के ऐतिहासिक पौराणिक और अन्य स्थलों का निरीक्षण कर रहें है. जिलाधिकारी की पहल से क्षेत्र के लोगों में विकास की आशा जगी है.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें