बिहार मैट्रिक परीक्षा के समय में हुआ बदलाव, दूसरी पाली की परीक्षा का बदल गया समय

पटना: बिहार में 10वीं बोर्ड यानी मैट्रिक परीक्षा की शुरुआत 14 फरवरी से शुरू हो रही है. परीक्षा 22 फरवरी तक चलेगी. दो पालियों में होने वाली परीक्षा में बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने बड़ा बदलाव किया है. समिति ने मैट्रिक की दूसरी पाली में होने वाली परीक्षा का समय संशोधित कर दिया है. परिवर्तित समय के अनुसार वैसे विषय जिनकी परीक्षा की समयावधि दोपहर 1.45 बजे से 5 बजे तक है उनका समय संशोधित करते हुए अब दोपहर 2 बजे से 5.15 बजे तक किया गया है. वहीं दूसरी पली के अन्य विषय जिनकी परीक्षा की समयावधि दोपहर 1.45बजे से शाम 4.30 बजे तक है उसे संशोधित करते हुए दोपहर 2 बजे से 4.45 तक निर्धारित किया गया है. यानी दूसरी पाली की परीक्षा अब दोपहर 2 बजे से शुरू होगी. साथ ही परीक्षार्थियों को परीक्षा शुरू होने के आधे घंटे पहले ही प्रवेश करना होगा. यानी दोपहर 2 बजे से होने वाली परीक्षा से आधे घंटे पहले 1.30 बजे परीक्षा केंद्र में प्रवेश करना होगा.

मैट्रिक परीक्षा में राज्य में 16,37,414 परीक्षार्थी हैं।इनमें 8,31,213 छात्राएं एवं 8,06,201 छात्र हैं. परीक्षा में 10 सेटों में सवाल पूछे जाएंगे। इसमें ए, बी, सी, डी, ई, एफ, जी, एच, आई और जे सेट होंगे। परीक्षार्थियों को सवाल हल करने में परेशानी न हाे इसके लिए ऑब्जेक्टिव से सब्जेक्टिव तक में दोगुने विकल्प मिलेंगे। जिले में 75 हजार से अधिक परीक्षार्थी हैं। 76 केंद्र बनाए गए हैं। स्टूडेंट्स की संख्या अधिक होने से एक-एक विषय की परीक्षा दो-दाे पालियों में होगी।

समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि पहली पाली की परीक्षा के लिए सुबह 9 बजे प्रवेश करना होगा और परीक्षा सुबह 9.30 से शुरू होगी. पहली पाली की परीक्षा 12:45 बजे समाप्त होगी. इस बार 14 फरवरी 2023 – गणित, 15 फरवरी 2023 – विज्ञान, 16 फरवरी 2023 – सामाजिक विज्ञान, 17 फरवरी 2023 – अंग्रेजी, 20 फरवरी 2023 – मातृभाषा, 21 फरवरी 2023 – द्वितीय मातृभाषा और 22 फरवरी 2023 – इलेक्टिव विषय की परीक्षा होगी. परीक्षार्थी को परीक्षा कक्ष में 15 मिनट का अतिरिक्त समय प्रश्न पत्र, उत्तरपुस्तिका, ओएमआर उत्तर पत्रक, आदि को पढ़ने एवं समझने के लिए दिया जाएगा. परीक्षा केन्द्र में कैलकुलेटर, मोबाइल फोन, ब्लूटूथ, ईयरफोन या अन्य इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स आदि लाना / प्रयोग करना वर्जित है.

0Shares
A valid URL was not provided.