अब गांव-गांव में जायेगी वैक्सीनेशन एक्सप्रेस, प्रतिदिन 200 लाभार्थियों का होगा टीकाकरण

अब गांव-गांव में जायेगी वैक्सीनेशन एक्सप्रेस, प्रतिदिन 200 लाभार्थियों का होगा टीकाकरण

• 45 वर्ष या उससे अधिक उम्र वाले लाभुका का होगा टीकाकरण

• आरबीएसके वाहनों का किया जायेगा प्रयोग
• एएनएम, आशा व जनप्रतिनिधि फैलायेंगे जागरूकता

• चलंत टीकाकरण के दौरान ऑन स्पॉट रजिस्ट्रेशन की सुविधा

Chhapra: जिले में 45 वर्ष या इससे अधिक आयुवर्ग श्रेणी में टीकाकरण की प्रगति के दृष्टिगत एवं दूरस्थ ग्रामीण इलाकों में लाभार्थियों के घर के समीप टीकाकरण की सुविधा उपलब्ध कराने एवं टीकाकरण सत्रों की संख्या बढ़ाने के उद्देश्य से टीका एक्सप्रेस (45 वर्ष या इससे अधिक आयुवर्ग के लिए) चलाने का निर्णय लिया गया है। टीका एक्सप्रेस का संचालन राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आर.बी.एस.के.) के तहत संचालित वाहन का उपयोग कर किया जायेगा। इस संबंध में राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी कर सिविल सर्जन को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि टीकाकरण की 45 वर्ष एवं इससे अधिक आयुवर्ग के लाभार्थियों की श्रेणी में मांग को देखते हुए टीकाकरण सत्र का निर्धारण लाभार्थियों के गांव के समीप किसी विद्यालय / सामुदायिक भवन / पंचायत सरकार भवन आदि में किये जाये। सत्रों का मांग के अनुरूप निर्धारण प्रखंड कार्यक्रम प्रबंधक जीविका एवं प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक के आपसी समन्वय से किया जाय।
जीविका व जनप्रतिनिधियों का लिया जायेगा सहयोग
गांवों में कोविड टीकाकरण सत्र की सूचना ससमय संबंधित आशा, ए.एन.एम. जीविका एवं जनप्रतिनिधियों को दी जायेगी। आशा कार्यकर्ता एक दिन पूर्व संबंधित गांव में जाकर लाभार्थियों के उत्प्रेरण का कार्य सुनिश्चित करेंगी ताकि पर्याप्त संख्या में लाभार्थियों को टीकाकरण की सुविधा उपलब्ध कराई जा सके। एक गांव में टीकाकरण का कार्य पूर्ण कर टीका एक्सप्रेस दूसरे गांव के दूसरे टीकाकरण सत्र के लिए प्रस्थान करेगी।
प्रतिदिन 200 लाभार्थियों का होगा टीकाकरण
प्रतिदिन प्रति वाहन न्यूनत्तम 200 लाभार्थियों के टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया जाय। निर्धारित सत्रों की कोविन पोर्टल पर मैपिंग आवश्यक सूचना प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक द्वारा जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकरी को उपलब्ध कराई जाय।
सुबह आठ बजे शुरू होगी टीका एक्सप्रेस
चलन्त टीकाकरण का कार्य सुबह 8 बजे से संचालित किया जाय। चलन्त टीकाकरण के संचालन के लिए राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत कार्यरत एएनएम द्वारा टीकाकरण का कार्य संचालित किया जाय तथा उपलब्ध फार्मासिस्ट द्वारा लाभार्थियों ( 45 वर्ष या इससे अधिक आयुवर्ग) का कोविन पोर्टल पर ऑन स्पॉट पंजीकरण करते हुये टीकाकरण किया जाय। आरबीएसके के फार्मासिस्ट को पूर्व में लैपटॉप आदि की सुविधा उपलब्ध कराई गई है।ऑनलाइन दिया जायेगा प्रशिक्षण
पत्र के माध्यम से निर्देश दिया गया है कि चलन्त टीकाकरण दल के सभी सदस्यों का प्रशिक्षण जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी द्वारा ऑनलाइन कराने की व्यवस्था की जाय। इसके तहत टीकाकरण, कोल्डचेन प्रबंधन, बायोवेस्ट प्रबंधन, ए.ई.एफ.आई. प्रबंधन एवं कोविन पोर्टल संचालन संबंधित प्रशिक्षण दिया जाय।कोविन पार्टल से संबंधित तकनीकी प्रशिक्षण जिला अनुश्रवण एवं मूल्यांकन पदाधिकारी द्वारा दिया जाय। टीकाकरण सत्र समाप्ति के पश्चात् जनित कचड़ों का प्रबंधन बायोवेस्ट प्रबंधन के तहत किया जाना सुनिश्चित किया जाय।
इंटरनेट में गड़बड़ी होने पर भी किया जायेगा टीकाकरण
इंटरनेट की तकनीकी गड़बड़ी के कारण कोविन पोर्टल पर आंकड़ों का ससमय संधारण में कठिनाई होने की स्थिति में सत्र स्थल पर लाभार्थी की विस्तृत विवरणी (नाम पता, आधार कार्ड संख्या मोबाईल संख्या, जन्म तिथि, लिंग आदि) को अलग से संधारित करते हुए टीकाकरण किया जाये तथा इसका कोविन पोर्टल पर उसी दिन संधारित कराना सुनिश्चित किया जाय।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें