दिघवारा: उत्कर्ष फाइनेन्स लूटकांड का उद्भेदन, बैंक चपरासी ने किया था लाइनर का काम

Chhapra: सारण पुलिस ने दिघवारा स्थित उत्कर्ष फाइनेंस कंपनी से लूट की घटना का उद्भेदन करते हुए इस लूटकांड में संलिप्त 3 अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया है.पुलिस ने उनके पास से लूट की रकम 64 हजार रुपये भी बरामद कर लिया है.

लूटकांड का उद्भेदन करते हुए पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार ने बताया कि दिघवारा थानान्तर्गत दिघवारा रेलवे ढाला के समीप पुरानी बस स्टैण्ड के पास उत्कर्ष फाईनेन्स कम्पनी के कैशियर राहुल कुमार से बैंक में जमा करने हेतु राशि ले जाते समय
अज्ञात अपराधकर्मी द्वारा गोली चलाकर नगद राशि 9 लाख 49 हजार रुपये लूट लिए गए थे. जिसके संदर्भ में दिघवारा थाना कांड सं0- 127/21, 10 मई को दर्ज कराई गई थी.

दर्ज प्राथमिकी पर एसपी संतोष कुमार के निर्देशन में कांड में शामिल अपराकर्मियों की गिरफतारी एवं लूटी गई राशि की बरामदगी के लिए अनुमण्डल पुलिस पदाधिकारी सोनपुर के नेतृत्व में SIT का गठन कर अनुसंधान प्रारम्भ किया गया. अनुसंधान के क्रम में कांड में उपलब्ध साक्ष्य एवं तकनीकि अनुसंधान के सहयोग से सघन छापामारी कर लूट कांड में शामिल दिघवारा निवासी कृष्णा राम को गिरफतार किया गया.

पूछ-ताछ के क्रम में कृष्णा राम ने लूटकांड में अपनी संलिप्ता स्वीकार करते हुए घटना क्रम का उद्भेदन किया. कृष्ना राम ने बताया कि मुझे तथा मेरे सहकर्मी मीरपुर भुआल निवासी उमेश महतो को बैंक ऑफ इंडिया के चपरासी रमेश पासवान द्वारा लाईन दिया गया कि उत्कर्ष फाईनेंस का पैसा प्रतिदिन 10.30 बजे से 2 बजे के बीच जमा होने के लिए आता है. कृष्णा राम तथा उमेश महतो इस लूटकांड को अंजाम देने के लिए बैंक के चपरासी रमेश पासवान के साथ योजना बनाकर इस कांड के अंजाम को लेकर परसा के कुछ अपराधकर्मी से सेटिंग की गई. जिसके बाद अपराधियों का बैंक के चपरासी से परिचय कराया गया. योजना के मुताविक 10 मई को लूट की घटना को अंजाम दिया गया.

एसपी श्री कुमार ने बताया कि उमेश पासवान की निशानदेही पर इस लूट में मिले हिस्से में से 30 हजार रुपये, कृष्णा राम की निशानदेही पर लूट के हिस्से का 25 हजार रूपये तथा बैंक के चपरासी रमेश पासवान के निशानदेही पर लूट के हिस्से का 10 हजार रूपये तथा बैंग जिसमें लूट का पैसा ले जाया गया था बरामद किया गया.

एसपी श्री कुमार ने बताया कि घटना में संलिप्त अन्य अपराधकर्मियों की गिरफतारी एवं लूटी गयी शेष राशि की बरामदगी हेतु सघन छापामारी जारी है.

0Shares
A valid URL was not provided.