सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से पहली बार ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण

सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से पहली बार ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण

New Delhi: भारतीय वायुसेना के सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से पहली बार ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का बुधवार को सफल परीक्षण किया गया. इस परीक्षण से आसमान में देश की युद्धक क्षमता को बढ़ावा मिलेगा.

ब्रह्मोस मिसाइल करीब 290 किलोमीटर की दूरी तय मार कर सकती है. इस मिसाइल को जमीन, समुद्र और वायु से छोड़े जाने वाली दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल बताया गया है. रक्षा मंत्रालय ने बताया कि लड़ाकू विमान से छोड़ी गई मिसाइल ने बंगाल की खाड़ी में लक्ष्य को भेदा. इस मिसाइल को जमीन और समुद्र से छोड़े जाने वाले संस्करणों को पहले ही सशस्त्र सेना में शामिल किया जा चुका है. मिसाइल की गति 2.8 मैक है. यानी यह ध्वनि की रफ्तार से 2.8 गुना तेज गति से लक्ष्य भेदती है.किया जा रहा है.

0Shares
Prev 1 of 225 Next
Prev 1 of 225 Next

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें