दूरदर्शन ने पूरे किये 60 साल

दूरदर्शन ने पूरे किये 60 साल

दूरदर्शन ने आज 60 साल पूरे कर लिए है. दूरदर्शन के प्रसारण की शुरूआत 15 सितम्बर 1959 को सरकारी प्रसारक के तौर पर हुई.

दूरदर्शन की शुरुआत के समय इसमें कुछ देर के लिए कार्यक्रमों का प्रसारण किया जाता था. नियमित दैनिक प्रसारण की शुरुआत 1965 में आल इंडिया रेडियो के एक अंग के रूप में हुई. 1972 में यह सेवा मुम्बई (तत्कालीन बंबई) और अमृतसर तक विस्तारित की गई, जो आज देश के दूरदराज के गांवों तक उपलब्ध है. राष्ट्रीय प्रसारण की शुरूआत 1982 में हुई.

दूरदर्शन के राष्‍ट्रीय नेटवर्क में 64 दूरदर्शन केन्‍द्र / निर्माण केन्‍द्र, 24 क्षेत्रीय समाचार एकक, 126 दूरदर्शन रखरखाव केन्द्र, 202 उच्‍च शक्ति ट्रांसमीटर, 828 लो पावर ट्रांसमीटर, 351 अल्‍पशक्ति ट्रांसमीटर, 18 ट्रांसपोंडर, 30 चैनल तथा डीटीएच सेवा भी शामिल है.

दूरदर्शन के चर्चित धरावाहिक आज भी लोगों के मन मस्तिष्क पर छाये हुए है. जिनमे से बाइस्कोप, चित्रहार, बुनियाद, हम लोग, रामायण, महाभारत, कसक, सरस्वतीचन्द्र, चँद्रकांता, शक्तिमान, जंगल बुक, तहकीकात, विक्रम बेताल, अलिफ़ लैला, देख भाई देख आज भी लोगों को उस दौर की याद ताजा कराती है.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.