जिलाधिकारी के किस बात से शांत हो गये उग्र शिक्षक

जिलाधिकारी के किस बात से शांत हो गये उग्र शिक्षक

छपरा: नियोजित शिक्षकों के वेतन को लेकर शिक्षक नेताओं ने सोमवार को डीपीओ कार्यालय तथा जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय का घेराव कर जमकर नारेबाजी की. शिक्षक पिछले तीन महीने से वेतन नही मिलने से उग्र थे.

इस सम्बन्ध में परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष समरेन्द्र बहादुर ने बताया कि नियोजित शिक्षक वेतन के लिए तरस रहे हैं लेकिन शिक्षा विभाग के पदाधिकारी चिर निद्रा में सोए रहते है. राज्य सरकार द्वारा पैसा मिलने के बाद भी वेतन देने में स्थिलता बरती जा रही है. विगत दिनों वेतन भी गया तो डीइओ द्वारा बैंक को पत्र भेजकर वेतन निर्गत करने पर रोक लगा दी गयी जिससे शिक्षक काफी रोष में हैं. उन्होंने कहा कि पिछले दिनों से इस जिले में एक डीइओ के पद को लेकर दो लोग पदाधिकारी बने हैं. एक के द्वारा पत्र निकाला जाता है तो दूसरे के द्वारा पत्र को रद्द कर दिया जाता है और इस कार्य का खामियाजा शिक्षक भुगत रहे हैं. वेतन को लेकर भी यही स्तिथि बनी है बैंक में जाने के बाद भी पत्र भेजकर वेतन के भुगतान को रद्द दिया गया है. इसको लेकर पदाधिकारियों को सोमवार तक का समय दिया गया था लेकिन इनके द्वारा कोई पहल नही की गई.

हालांकि इस विषय पर जिलाधिकारी दीपक आनंद ने खुद पहल करते हुए शिक्षकों को दो दिन इन्तेजार करने की बात कही. साथ ही दो दिनों के बाद प्रधान सचिव से इस विषय पर स्वयं मिलने की बात कही.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें