अय्याशी से कारण मारा गया था डीलर, जानिए पूरा मामला

बेगूसराय:  बेगूसराय पुलिस ने दस मार्च को मंझौल में डीलर अरूण सिंह हत्याकांड एवं 23 जून को टेन्ट हाउस संचालक गोलीकांड का खुलासा करते हुए तीन अपराधियों को हथियार एवं गोली के साथ गिरफ्तार किया गया। यह जानकारी रविवार को अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित प्रेस वार्ता में एसपी योगेन्द्र कुमार ने दी।

एसपी ने बताया कि मंझौल सहायक थाना क्षेत्र के पलड़ा में जन वितरण प्रणाली विक्रेता (डीलर) अरुण सिंह अय्याश किस्म का व्यक्ति था। अपने क्षेत्र की राशन कार्ड धारी महिलाओं को कार्ड कुछ-कुछ गड़बड़ी होने का बहाना बनाकर राशन नहीं देता था और अपने जाल में फंसा लेता था। इसके अनुसार यौन शोषण करता था, कई महिलाओं का उसने यौन शोषण किया। गिरफ्तार किए गए कमला निवासी मो. सोनू एवं पलड़ा निवासी मो. अशफाक राजा परिवार की महिलाओं का भी यौन शोषण किया था। इसी से आक्रोशित होकर दोनों ने अरुण सिंह की व्यवस्था ने पकड़ कर दस मार्च को सुबह करीब साढ़े तीन बजे चाकू से गला काटने के बाद गोद-गोद कर हत्या कर दी। जबकि 23 जून को अरविन्द टेन्ट हाउस के संचालक को गोली मारने में इन दोनों के साथ पवड़ा निवासी मो. ऐनायातुल्लाह भी था। पूर्व में घटित मारपीट की घटना के कारण चल रही दुश्मनी के प्रतिशोध में गोली मारी गई थी।

अपराधियों के पास से एक देशी पिस्टल, पांच गोली, एक मोटरसाईकिल एवं दो मोबाईल बरामद किया गया है। एसपी ने बताया कि घटना के बाद मंझौल डीएसपी सत्येंद्र कुमार सिंह के नेतृत्व लगातार अनुसंधान कर छापेमारी किया जा रहा था। उद्भेदन करने वाली टीम को पुरस्कृत किया जाएगा। प्रेसवार्ता में मंझौल डीएसपी सत्येंद्र कुमार सिंह एवं थानाध्यक्ष अजित कुमार भी मौजूद थे।

0Shares
[sharethis-inline-buttons]

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें