जिला में छठ व्रतियों को नहीं होगी दिक्कत, सुरक्षा के लिए घाटों पर बैरिकेडिंग: राजीव प्रताप रुडी

जिला में छठ व्रतियों को नहीं होगी दिक्कत, सुरक्षा के लिए घाटों पर बैरिकेडिंग: राजीव प्रताप रुडी

जिला में छठ व्रतियों को नहीं होगी दिक्कत, सुरक्षा के लिए घाटों पर बैरिकेडिंग: राजीव प्रताप रुडी

Chhapra: चार दिवसीय लोक आस्था के महापर्व छठ पूजा की शुरूआत 28 अक्टूबर को नहाय-खाय के साथ हो रही हैं. इसके लिए घाटों पर व्रतियों की सुविधा और सुरक्षा के लिए तैयारियां चल रही है. इसी संदर्भ में सारण लोकसभा क्षेत्र के सांसद व भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव प्रताप रुडी ने जिलाधिकारी से बात की और जिला के सभी छठ घाटों पर पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था के साथ ही साफ-सफाई की भी जानकारी ली.

सांसद ने रविवार को अमनौर में भी प्राकृतिक सौंदर्य और आध्यात्मिक संस्कृति का अदभूत केन्द्र प्राचीन पोखरा पर छठ घाटों का निरीक्षण किया और प्रशासनिक अधिकारियों को घाटों पर व्रतियों को कोई असुविधा नहीं हो, बल्कि उनकी सुविधा हेतु पूरी निष्ठा एवं सेवा भावना से कार्य पूरा करने का निर्देश दिया.

मौके पर उपस्थित स्थानीय विधायक मंटू सिंह, मढ़ौरा एसडीओ, डीएसपी, बीडीओ और सीओ समेत समिति के सदस्यों व कार्यकर्ताओं के साथ सांसद ने घाटों पर नियंत्रण कक्ष की स्थापना, प्रकाश की पर्याप्त व्यवस्था, गोताखोर, बैरिकेडिंग करने, शौचालय, पेयजल, आदि कार्यों की तैयारियों के लिए दिशा-निर्देश दिया.

श्री रुडी ने कहा कि सारण जिला से होकर तीन बड़ी नदियां, गंगा, गंडक और घाघरा (सरयू) गुजरती है. इन नदियों के घाटों पर छठ पूजा के दौरान अत्यधिक भीड़ होता है. श्रद्धालु नदी के किनारे जाते है. नदियों के कटाव और पानी की अधिकता के कारण सदा अनहोनी की आशंका बनी रहती है. सांसद ने श्रद्धालुओं से ऐसे घाटों पर अधिक पानी या गहराई में जाने से बचने का आग्रह किया.

उन्होंने जिला प्रशासन से भी ऐसे गहराई वाले घाटों को चिन्हित करते हुए पुख्ता सुरक्षा इंतजाम करने को कहा. सांसद रूडी ने बताया कि जो लोग नदियों पर बने छठ घाटों पर नहीं जाते वे अपने-अपने गांवों में बने तालाबों पर पूजा करने के लिए जाते है. इन तालाबों में भी कई स्थानों पर गहराई बहुत है जिसका अनुमान नहीं मिलता है. अमनौर का बड़ा पोखरा के घाटों की भी गहराई अधिक है. बड़ा पोखरा पूजा के लिए श्रद्धालुओं की पहली पसंद है. सतरंगी रोशनी में बिखरी अमनौर पोखरा की अलौकिक छटा उसे आकर्षक बनाती है और अधिक संख्या में श्रद्धालु लोक आस्था के महापर्व छठ मईया की पूजा के लिए यहां आते है.

श्री रुडी ने प्रशासनिक अधिकारियों से ऐसे स्थानों को चिन्हित कर बैरीकेडिंग का निर्देश दिया ताकि कोई गहराई वाले स्थान पर न जाये.

आपदा प्रबंधन के सचिव संजय अग्रवाल से भी पूर्व केंद्रीय मंत्री रुडी ने इस संदर्भ में बात की और गोताखोर नियुक्त करने के लिए भी कहा. सांसद ने घाटों पर सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा करने के पश्चात श्रद्धालुओं की सुरक्षा का उचित प्रबंधन करने को भी कहा.

श्री रुडी द्वारा सभी संबंधित अधिकारियों को विशेष चौकसी बरतने तथा छठ घाटों पर व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है. इस दौरान छठ के मौके पर घाटों की सफाई एवं सुविधाओं के लिए जहां भाजपा कार्यकर्ता और प्रशासनिक अमला लगा है वहीं आमजन भी जुटे हैं. घाटों की साफ सफाई के साथ ही आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही है.

सांसद श्री रुडी ने कहा कि हर घर में छठ का पर्व होता है. व्रतियों और श्रद्धालुओं को कठिनाई न हो इसके लिए प्रशासनिक पहल जरूरी है. घाट तक जाने वाले रास्तों को दुरुस्त किया जाना आवश्यक है. साथ ही घाटों पर प्रकाश और शौचालय की व्यवस्था की जा रही है.

0Shares
Prev 1 of 243 Next
Prev 1 of 243 Next

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें