सारण्य महोत्सव ने नि:शुल्क स्वास्थ्य जाँच शिविर का किया आयोजन

Chhapra: सारण्य महोत्सव के तत्वावधान में नि:शुल्क स्वास्थ्य जाँच शिविर का आयोजन किया गया। शिविर का उद्धघाटन नगर निगम मेयर लक्ष्मी नारायण गुप्ता, डॉक्टर विजय किशोर प्रसाद, डाॅ शम्भू कुमार, डाॅ उज्ज्वल कुमार वर्मा, डाॅ सचिन, डाॅ नम्रता जायसवाल, डाॅ अविनाश कुमार, डाॅ सैय्यद सोहेल अख्तर, डाॅ सम्पूर्णा नन्द सिंह, सारण्य महोत्सव अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश राज महासचिव श्याम बिहारी अग्रवाल, सीए अमित कुमार ने दीप प्रज्वलित कर किया।

नगर निगम मेयर लक्ष्मी नारायण गुप्ता ने अपने सम्बोधन में कहा यह जाँच शिविर निचले तबके के लोगो के लिए मिल का पत्थर साबित होगा। गरीबो के उत्थान के लिए इस तरह का स्वास्थ्य जाँच शिविर लगते रहना चाहिए।

सारण्य महोत्सव के महासचिव श्याम बिहारी अग्रवाल ने अपने संबोधन में कहा दान्त की जांच नियमित रूप से आवश्यक है क्योंकि नियमित जांच नहीं कराने से मुँह का केन्सर होना लाजमी है। यदि आपका मुँह कम खुल रहा है या मुँह में छाले पड़े हुए बीस दिन से ज्यादा हो गया हो या मुँह में जलन की शिकायत हो या मुँह के अन्दर में सफेद या लाल परत बन जाता है तो तुरन्त दाँत के डाॅक्टर से सलाह लेना चाहिए इस तरह की बीमारी बीड़ी, तम्बाकू, सिगरेट, गुटका, कसैली आदि के सेवन से शीघ्रता से फैलती है इस तरह के नसीले पदार्थो का बहिष्कार करके ही स्वस्थ रहा जा सकता है।
 

डॉक्टर विजय किशोर प्रसाद ने बताया अपने भोजन में चीनी और नमक का इस्तेमाल कम से कम करें तथा सुबह की सैर सभी रोगो के लिए राम बाण दवा है। अधिक वजन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है।
नेत्र रोग विशेषज्ञ शंभू कुमार ने बताया सबसे ज्यादा मरीज दृष्टिदोष के पाए गए हैं,उन्हें सलाह है हमेशा हरी सब्जियों का सेवन करें तथा हरी घास पर खाली पैर चलें,आँखों की नियमित जाँच अति आवश्यक हैं,गर्मी के मौसम में धुप का चश्मा लगा कर हीं घर से बाहर निकलें।

डाॅक्टर सचिन ने जाँचोपरान्त बताया गर्भवती महिलाओं को जिन्जाभाडिस,पायोजिनिक, ग्रेनुलोमा और गस्टेस्नल डायबिटिस का खतरा ज्यादा होता है। जिसका समय-समय पर जाँच कराते रहना चाहिए। दाँत की जड़ो के ऊपरी भाग में होने वाला संक्रमण एक सामान्य बात है,जिसको अनदेखा करने पर ह्रदय रोग का खतरा बढ़ जाता है।

डॉक्टर उज्ज्वल कुमार वर्मा शिविर में जाँचोपरान्त बताया भारत में 90-95 प्रतिशत कैंसर SQUAMOUS CELL CARCINOMA होता है जो तेजी से फैलता है। भारत में 2012 में एक मिलियन ओरल केन्सर के रोगी थे जो 2025 तक दो मिलियन रोगी होने की सम्भावना है।

डाॅक्टर सैयद सोहेल अख्तर तथा डॉक्टर सम्पूर्णा नन्द सिंह ने जाँचोपरान्त बताया चर्म रोग के ज्यादा मरीज पाए गए होमियोपैथिक तथा आयुर्वेद में ही कारगर इलाज है थोड़ा समय लगेगा लेकिन बीमारी जड़ से खत्म हो जाती है।

जाँच शिविर के संयोजक सीए अमित कुमार ने बताया इस शिविर में 256 रोगियों की जाँच नि:शुल्क की गई तथा सभी को नि:शुल्क दवा नर्वस फार्मा द्वारा उपलब्ध कराया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सारण्य महोत्सव के अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश राज ने किया और कहा समय-समय पर सारण्य महोत्सव के द्वारा स्वास्थ्य जाँच शिविर का आयोजन होता रहेगा।

सारण्य महोत्सव द्वारा साहित्य, संस्कृति, शिक्षा, एवं खेल-कूद से संबंधित अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जाएँगे। संचालन सारण्य महोत्सव के महासचिव श्याम बिहारी अग्रवाल ने किया तथा स्वागत सीए अमित कुमार ने किया तथा धन्यवादज्ञापन सुमित कुमार ने किया।

इस अवसर पर अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश राज, महासचिव श्याम बिहारी अग्रवाल, सीए अमित कुमार, प्रियन्का कुमारी, डॉक्टर अन्जली सिंह, डाॅ देवेश कुमार, राकेश कुमार मिश्रा, सुभाष ओझा, अमितेश कुमार, सुरेश प्रसाद सिंह, राकेश भुषण पाण्डेय, हिमान्शु किशोर, गोपाल गोयन्का आदि ने शिविर में अपनी सेवा प्रदान की।

0Shares
A valid URL was not provided.