कर्मचारियों का आभाव या रेलवे की मनमानी, अनियमितताओं के दौर से गुजर रहा छपरा जंक्शन

कर्मचारियों का आभाव या रेलवे की मनमानी, अनियमितताओं के दौर से गुजर रहा छपरा जंक्शन

छपरा: छपरा रेलवे जंक्शन काफी अनियमितताओं के दौर से गुजर रहा है. कभी  कर्मचारियों के आभाव का बहाना तो कभी सौंदर्यीकरण के नाम पर आम यात्रियों को हमेशा परेशानी उठानी पड़ती है.

नहीं खुलते सभी टिकट काउंटर

छपरा जंक्शन पर टिकट काउंटर तो दर्जनों है पर खुलता सिर्फ एक या दो ही है. छपरा एक अतिव्यस्ततम स्टेशन है ऐसे में मात्र 2 टिकट काउंटर खुलने से लंबी कतार लग जाती है जिस वजह से जल्दबाजी में टिकट लेना मुश्किल होता है और कई बार समय पर टिकट नहीं मिलने से यात्रियों की ट्रेन छुट जाती है.ज्यादातर यात्री लंबी कतार  देख कर स्टेशन से बाहर प्राइवेट बुकिंग काउंटरों से टिकट लेने को मजबूर होते है.

निर्माणाधीन प्लेटफॉर्म पर भी आती है ट्रेनें

इन दिनों छपरा जंक्शन के प्लेटफॉर्म नंबर 2 और 3 पर फर्श के निर्माण का कार्य चल रहा है. प्लेटफॉर्म पर बड़े-बड़े रोड़े बिछे हैं जिस कारण इस प्लेटफॉर्म पर चलना भी मुश्किल है बावजूद इसके महत्वपूर्ण ट्रेनों को इस प्लेटफॉर्म पर खड़ा किया जाता है. यात्री जैसे-तैसे प्लेटफॉर्म पर उतरते है और बड़ी मुश्किल सर इसे पार करते हैं.

विदित हो कि छपरा जंक्शन ए-ग्रेड के स्टेशन में शामिल है बावजूद इसके यात्री सुविधा का आभाव छपरा के प्रति रेलवे बोर्ड की उदासीनता को दर्शाता है.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें