पदाधिकारी की कार्यशैली देख भड़के मंत्री, बोले: इस सरकार में काम चाहिए, आराम नही

पदाधिकारी की कार्यशैली देख भड़के मंत्री, बोले: इस सरकार में काम चाहिए, आराम नही

Chhapra: शहर के राजेन्द्र स्टेडियम में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग द्वारा आयोजित आवेदकों के साथ कागजीकरण निष्पादन हेतु कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यक्रम का शुभारंभ अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया. कार्यक्रम में आवेदकों की कम संख्या सुन मंत्री भड़क गए और उन्होंने जिला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी को कहा कि इस सरकार में काम चाहिए, काम नही करना है तो आराम कीजिये. नीतीश कुमार के नेतृत्व में काम कर रही बिहार सरकार किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही करेगी.

उन्होंने कहा कि 109 आवेदन अग्रसरित है जिसमे 85 आवेदनकर्ताओं को लोन दिया जाएगा. 109 आवेदन में 30 आवेदन व्यवसायिक एवं तकनीकी प्रक्षेत्र के लिए आये जिसमे 21 आवेदकों को ऋण दिया जाएगा, लघु एवं कुटीर उद्धोग से 23 आवेदन आये जिसमे 18 आवेदकों को ऋण दिया जाएगा, अन्य प्रक्षेत्र में 4 आवेदन आये है जिसमे 3 आवेदकों को ऋण दिया जाएगा, पूरक सूची में 47 आवेदन आये जिसमे 25 आवेदनकर्ताओं को ऋण दिया जाएगा. नीतीश सरकार चाहती है कि ज्यादा से ज्यादा आम जनों के हित मे चल रही जनकल्याणकारी योजना आम लोगों तक पहुंचे. प्रचार प्रसार के माध्यम से भी सरकार की कोशिश है कि सरकार द्वारा चल रही योजना जन जन तक पहुंचे. उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित पार्टी के वरीय पदाधिकारी से भी कहा कि प्रचार प्रसार करें. नीतीश सरकार हर लाभुकों तक योजना पहुंचना चाहती है. उसी क्रम में मैं भी सूबे में घूम-घूमकर, देर रात तक चौपाल करके लोगों से जान संवाद के जरिये योजनाओं को पहुंचा रहा हूँ.

अल्पसंख्यक मंत्री ने विपक्ष पर जमकर बोला हमला

अल्पसंख्यक मंत्री ने संबोधित करते हुए विपक्ष पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि जो अपने आप को आपका हमदर्द बताता है उसने क्या किया है. अगर उनसे कुछ किया है तो वो बोलने का काम किया है. काम करने के लिए जमीनी स्तर पर काम करना होता है बोलने से काम नही होता है.

उन्हीने कहा कि नीतीश कुमार जब मुख्यमंत्री बने थे तभी उन्होंने हिन्दुतान के सरजमी पर बिहार में 2463 मदरसों को स्वीकृति देकर बड़ा काम किया था. अब तक किसी सरकार ने करने को सोंचा नही तो करना कि दूर की बात है. नीतीश सरकार से पहले योजनाएं बनाई ही नही जाती थी, सिर्फ बात की जाती थी. नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री बनते ही योजना बनी की जैसे 10 हज़ार की राशि जब मैट्रिक की परीक्षा में फर्स्ट डिवीज़न करने वाले छात्रों को मिलता है, वैसे ही मदरसा में पढ़ने वाले बच्चों को भी मिलेगा. पहले सरकार के पास कब्रिस्तान की घेराबंदी के लिए कोई योजना नही थी अब सरकार की ओर से राशि दी जाती है.

मंत्री ने दिया अपना नंबर, कहा- कहीं परेशानी आये तो सीधे मुझसे संपर्क करें

अल्पसंख्यक मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने संबोधित करते हुए कहा कि आप मुझसे सीधे संवाद करें. कोई भी परेशानी हो हो तो मुझे मेरे नंबर पर सम्पर्क करें. अपनी परेशानियों को हमसे बताएं.

इस अवसर पर जिलाधिकारी हरिहर प्रसाद, पुलिस कप्तान हर किशोर राय, छपरा नगर निगम की मेयर प्रिया देवी, जदयू जिलाध्यक्ष अल्ताफ आलम ‘राजू’, पूर्व जदयू जिलाध्यक्ष बैजनाथ सिंह विकल, शैलेन्द्र प्रताप, वार्ड 38 की पार्षद नारगीस बानो सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे.

 

0Shares
Prev 1 of 225 Next
Prev 1 of 225 Next

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें