हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा श्री परमहंस दयाल जन्मभूमि मंदिर का स्थापना दिवस

हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा श्री परमहंस दयाल जन्मभूमि मंदिर का स्थापना दिवस

Chhapra: हर्षोल्लास के साथ श्री परमहंस दयाल जन्मभूमि मंदिर का स्थापना दिवस मनाया जा रहा है. श्री परमहंस दयाल मंदिर की स्थापना 26 अक्टूबर 2006 में हुई थी. यह भूमि परमहंस दयाल जी श्री अति देव आनंद जी महाराज की पावन जन्म भूमि है. यह एक ऐसे संत हुए जिनको लाखों-करोड़ों लोग श्रद्धा भाव से पूजते हैं. देश एवं विदेश में करीब 8 हज़ार से अधिक आश्रम बने हुए हैं. मंदिर परिसर के स्थापना दिवस के उपलक्ष में भजन कीर्तन प्रवचन का कार्यक्रम रखा गया है. इसी दिन समाज कल्याण के लिए रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया जाएगा. 26 अक्टूबर सुबह 9:00 बजे से लेकर 1:00 बजे तक रक्तदान शिविर चलेगा.

इस अवसर पर गुरु प्रेमी अमर कुमार ने बताया कि महाराज जी का जन्म 5 अप्रैल 1886 ई को छपरा के इसी पावन धरती पर हुआ था. उन्होंने समाधि 10 जुलाई 1919 को लिया था देश विभाजन के कारण व क्षेत्र अब पाकिस्तान में है. इनके समाधि पर भव्य मंदिर बना था जो पिछले साल में तोड़ दिया गया था. पूरे भारतवर्ष में पुरजोर विरोध हुआ. पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने एक्शन लेते हुए उस स्थल पर पुनः समाधि मंदिर का निर्माण कराया. इस महान संत को मानने वाले दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, मध्यप्रदेश, राजस्थान, जम्मू, हिमाचल आदि जगहों से भक्तों एवं संतों की टोली आती है. लोग दर्शन करते हैं.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें