छपरा-मढ़ौरा पथ का निर्माण करने वाली एजेंसी को किया गया निलंबित

छपरा-मढ़ौरा पथ का निर्माण करने वाली एजेंसी को किया गया निलंबित

Chhapra: पीडब्लूडी के छपरा-मढ़ौरा पथ का निर्माण कराने वाली एजेंसी मेसर्स राजा कंस्ट्रक्षन को राज्य सरकार द्वारा निलंबित कर दिया गया है. इस पथ के निर्माण में की गई धांधली के उजागर होने के बाद उक्त एजेंसी को निलंबित किया गया है. सड़क को विकास की पहली सीढ़ी मानने वाले क्षेत्रीय विकास के प्रति सजग स्थानीय सांसद राजीव प्रताप रुडी ने इस संदर्भ में कहा कि विकास कार्यां में अनियमितता से जनता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है. इसीलिए मेरा अन्य निर्माण कार्य में लगी एजेंसियों और अधिकारियों से कहना है कि वे जनहित की योजनाओं को फलीभूत करने में अपना सहयोग दें ताकि उसका उचित व त्वरित लाभ आमजन को मिल सके.

विदित हो कि उक्त पथ के निर्माण के संदर्भ में स्थानीय जनता ने सांसद से शिकायत की थी. साथ ही इस विषय को स्थानीय मीडियाकर्मियों ने भी उठाया था। इसके पश्चात श्री रुडी ने स्वयं जाकर इस पथ का निरीक्षण भी किया. अपने निरीक्षण में श्री रुडी ने पाया कि इस पथ का निर्माण, पथ निर्माण के मापदण्डों के अनुरूप नहीं हुआ है.

इसके बाद सांसद ने विभाग को इस संदर्भ में पत्र के माध्यम से अवगत कराया व राज्य के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव व विभाग के प्रधान सचिव अमृतलाल मीणा से मुलाकात कर उनका ध्यान इस तरफ आकृष्ट कराया था. सांसद की शिकायत पर प्रधान सचिव ने एक टीम गठित कर जाँच के लिए मढ़ौरा भेजा था.

पथ निर्माण विभाग की टीम ने जाँचोपरान्त अपनी रिपोर्ट में कार्य में कोई अनियमितता नहीं पाये जाने की बात कही और संवेदक को क्लीन चिट दे दिया था. इसके बाद सांसद ने पुनः पुख्ता प्रमाण के साथ पथ निर्माण विभाग को पत्र लिखा जिसके बाद विभाग द्वारा दुबारा जाँच कराई गई. दुबारा हुई जाँच के दौरान निर्माण कार्य में व्यापक रूप से अनियमितता का खुलासा हुआ. इस संदर्भ में एजेंसी से कारण भी पूछा गया जिसका संतोषजनक जवाब न दे पाने के कारण उसे निलंबित कर दिया गया है. एजेंसी ने जो जवाब दिया वह बिहार सरकार और एजेंसी के बीच हुए एकरारनामे के विपरीत था. एकरारनामे के अनुसार, सरकार ने पीक्यूसी निर्माण को घटिया पाया. संवेदक ने उसे छिपाने के उद्देश्य से उसपर कालीकरण करा दिया था. पर, सांसद की भ्रष्टाचार के खिलाफ पैनी नजर से यह छिप न सका और उसपर कार्रवाई हुई.

उन्होंने कहा कि सारण की जनता को सरकारी योजनाओं का गुणवत्तापूर्ण लाभ दिलाने में यह कार्रवाई मील का पत्थर साबित होगी. अब स्थानीय विकास से जुड़े तमाम ठेकेदार और एजेंसियो के बीच यह संदेश गया है कि उन्हें सारण जिले में काम की गुणवत्ता पर कहीं कोई समझौता नहीं किया जायेगा और किसी भी निर्माण की क्वालिटी में कमी नही आने दी जायेगी. बताया जाता है कि उक्त संवेदक गया के किसी विधायक से संबंधित है और अपने रसूख के कारण इस प्रकार के अनियमिततापूर्ण कार्य कराते रहे हैं. इस संदर्भ में बातचीत के दौरान श्री रुडी ने कहा कि सरकार सड़क निर्माण के लिए करोड़ों की राशि देती है लेकिन कुछ लोगों की मिलीभगत से सरकारी राशि का गोलमाल कर लिया जाता है. लिहाजा घटिया सड़क निर्माण के कारण निर्माण के साथ ही यह टूटने लगती है. सही तरीके से सड़क का निर्माण नहीं करने वाले लोगों के कारण हीं सरकार की योजनाओं का सही लाभ जनता को नहीं मिल पाता है.

इसी बाबत भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राकेश सिंह ने बताया कि सांसद राजीव प्रताप रुडी दशकों से सारण का नेतृत्व करते रहे है और यहाँ के लोगों की समस्या से वाकिफ है. छोटे से छोटे और बड़े से बड़े कार्यो और योजनाओं में भ्रष्टाचार न हो, इसका ख्याल रखते है. सारण के तमाम विकास कार्य में किसी न किसी रूप में सांसद का सहयोग या उनकी पहल शामिल होती है. उन्होंने कहा कि सांसद की इसी सजगता और तत्परता का परिणाम है कि प्रदेश में सारण, सरकारी योजनाओं के कार्यान्वयन में अव्वल है और जिले ने भ्रष्टाचारमुक्त विकास का नया आयाम स्थापित किया है.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.