सर्वसम्मति से पशुपति पारस बने लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष

सर्वसम्मति से पशुपति पारस बने लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष

पटना: लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के दो भागों में बांटने के बाद गुरुवार को राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में सर्वसम्मति से पशुपति कुमार पारस को राष्ट्रीय अध्यक्ष चुन लिया गया। गुरुवार की शाम लोजपा कार्यालय में इसकी औपचारिक घोषणा हुई।
पार्टी की कमान संभालते ही पशुपति कुमार पारस ने चिराग पासवान पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भतीजा तानाशाह हो जाएगा तो चाचा क्या करेगा? यह प्रजातंत्र है, कोई आजीवन अध्यक्ष नहीं रह सकता। वहीं, एक साथ चार पद पर खुद काबिज होने के सवाल पर पारस भड़क गए। वे पीसी छोड़कर निकल गए।

दलित सेना के अध्यक्ष पद पर रहने के सवाल पर पारस ने कहा कि दलित सेना अलग संस्था है, जिस दिन मंत्री पद लूंगा, उस दिन संसदीय दल के अध्यक्ष का पद छोड़ दूंगा। उन्होंने कहा कि चुनाव का काम सम्पन्न हो गया है। मेरे दल के लोगों ने मुझे बहुत बड़ी जिम्मेदारी दी है। बड़े भाई का सपना था कि समाज में गिरे हर वर्ग के लोगों को उत्थन करने करने का प्रयास रहेगा। जो साथी दुखी होकर दूसरी पार्टी में गए हैं, वे वापस आएं। मैं माफी मांगता हूं उनसे। वे वापस आएं और साथ दें।

उन्होंने यह भी कहा कि सामाजिक न्याय के तहत पार्टी को आगे बढ़ाएंगे। विश्वास दिलाता हूं कि पार्टी के अंदर कोई विरोध नहीं है। अगर ऐसा होता तो निर्विरोध मैं नहीं चुना जाता।

उल्लेखनीय है कि आज दोपहर तीन बजे लोजपा नेता सूरजभान सिंह ने कहा कि पशुपति पारस को निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया है। आज सुबह 11 बजे से तीन बजे तक चली राष्ट्रीय

कार्यसमिति की बैठक में पहुंचे सभी 71 सदस्यों ने समर्थन दिया। पशुपति पारस पार्टी के पांचों सांसदों के साथ एलजेपी कार्यालय पहुंचे। इसके बाद लोजपा के दिवंगत नेता रामविलास पासवान और रामचंद्र पासवान की फोटो पर माल्यार्पण किया गया। वहीं, पार्टी कार्यालय के बाहर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें