इतिहास के पन्नों में: 20 दिसंबर

इतिहास के पन्नों में: 20 दिसंबर

अंतरराष्ट्रीय मानव एकता दिवस: विविधता में एकता की ताकत और जरूरत के प्रति विश्व भर में लोगों को जागरूक करने के लिए संयुक्त राष्ट्र की तरफ से 20 दिसंबर को अंतरराष्ट्रीय मानव एकता दिवस घोषित किया गया। यह वैश्विक स्तर पर विश्व बंधुत्व, भाईचारा व शांति के संदेश के साथ दुनिया के लोगों के बीच मानवीय संबंधों को मजबूत करने का मौका है।

संयुक्त राष्ट्र मिलेनियम के मुताबिक एकजुटता उन बुनियादी मूल्यों में है जो अंतरराष्ट्रीय संबंधों के लिए बहुत जरूरी है। कोरोना जैसी वैश्विक आपदा, ग्लोबल वार्मिंग का गहराता संकट, दुनिया के बड़े हिस्से में आतंकवाद जैसी समस्या, अंतरराष्ट्रीय मानव एकता दिवस के महत्व को बेहतर तरीके से रेखांकित करती है। संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 22 दिसंबर 2005 को मानव एकता को एकजुटता के मौलिक और सार्वभौमिक अधिकारों के रूप में मान्यता दी थी।

अन्य अहम घटनाएं:

1917: मूर्तिकार व चित्रकार धनराज भगत का जन्म।

1928: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा का जन्म।

1936: प्रसिद्ध साहित्यकार रॉबिन शॉ पुष्प का जन्म।

1940: सुप्रसिद्ध भारतीय नृत्यांगना यामिनी कृष्णमूर्ति का जन्म।

1960: उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत का जन्म।

1980: भारतीय धावक के.एम. बीनू का जन्म।

1968: भारतीय क्रांतिकारी सोहन सिंह भकना का निधन।

2010: भारतीय अभिनेत्री नलिनी जयवंत का निधन।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें