दृष्टिबाधित भी होंगे प्रशिक्षित, आधुनिक प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन शीघ्र

दृष्टिबाधित भी होंगे प्रशिक्षित, आधुनिक प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन शीघ्र

Chhapra: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश विकास के पथ पर द्रुत गति से आगे बढ़ रहा है. विकास की इस गति में देश की आबादी के उन 2 करोड़ 68 लाख की युवा शक्ति का भी महत्वपूर्ण योगदान है जो शरीर के किसी न किसी अंग से दिव्यांग है. उक्त बातें स्थानीय सांसद राजीव प्रताप रूड़ी ने छपरा के ब्लाईंड स्कूल के निरीक्षण के दौरान कही.

श्री रूड़ी ने कहा कि राष्ट्रीय दृष्टिहीनता सर्वेक्षण के आंकड़े के अनुसार भारत में दृष्टिहीन दिव्यांगजनों की संख्या 80 लाख है. हमें दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों के जीवन को सुलभ और सुविधाजनक बनाना चाहिए ताकि समाज के इस महत्वपूर्ण अंग को हम मुख्यधारा से जोड़ कर देश और समाज को लाभान्वित कर सकें.

उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों को भी सही शिक्षा प्रदान की जा रही है जिससे ये भी समाज में हर स्तर पर एक सृजनात्मक योगदान देकर विकास में समान भागीदार बन रहे है. सांसद रुडी छपरा स्थित सेवा सदन का निरीक्षण कर रहे थे.

उन्होंने केंद्र सरकार से दृष्टिबाधित दिव्यांगजनों के लिए छपरा में दिव्यांग केंद्र की स्थापना की भी मांग की और बताया कि इस संदर्भ में वे अपने इस प्रयास को और तेज करेंगे.

विदित हो कि 13 अप्रैल 2017 को तत्कालीन केन्द्रीय सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने अंबेडकर प्रशिक्षण संस्थान का शिलान्यास किया था. इसके पूर्व केंद्र की भूमि को स्थानीय लोगों द्वारा अतिक्रमण कर लिया गया था.

सांसद के संज्ञान में आते ही उन्होंने तत्कालीन जिलाधिकारी कुन्दन कुमार से बात कर जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराते हुए दिव्यांगजनों के कल्याणार्थ कई योजनाओं का शुभारंभ भी कराया.

सांसद रुडी ने अपने सांसद कोष से पूर्व में जर्जर भवन के स्थान पर लगभग सवा करोड़ की लागत से दिव्यांगजनों के सुविधानुरूप नये और आधुनिक मानकों पर भवन का निर्माण कराया. दृष्टिबाधितो के लिए यह बिहार का पहला और आधुनिक केंद्र है जो सांसद ने अपने सांसद कोष से बनवाया है. इस केंद्र में दिव्यांगजनों के प्रशिक्षण की व्यवस्था की गई ताकि देश के विकास में इनकी भागीदारी सुनिश्चित की जा सके.

0Shares
A valid URL was not provided.