इतिहास के पन्नों में 02 अक्टूबरः अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी को याद करने की तारीख

इतिहास के पन्नों में 02 अक्टूबरः अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी को याद करने की तारीख

भारत के इतिहास में 02 अक्टूबर की तारीख का खास महत्व है। यह तारीख देश के दो महान विभूतियों के जन्मदिन के तौर पर इतिहास के पन्नों में दर्ज है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म 02 अक्टूबर, 1869 को पोरबंदर में हुआ था। पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 02 अक्टूबर, 1904 को हुआ था। महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था।

महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा ‘सत्य के साथ मेरे प्रयोग’ में बताया है कि बचपन में परिवार और मां के धार्मिक होने का उन पर गहरा असर पड़ा। शुरुआती पढ़ाई पोरबंदर में हुई और फिर राजकोट में। 1883 में 13 साल की उम्र में कस्तूरबा से शादी हो गई। 1888 में वकालत पढ़ने इंग्लैंड गए। लौटकर बंबई में वकालत शुरू की, लेकिन चली नहीं। इसी दौरान 1893 में गुजराती व्यापारी शेख अब्दुल्ला के बुलावे पर दक्षिण अफ्रीका गए और वहीं के हो गए। डरबन से प्रिटोरिया जा रहे थे, तब फर्स्ट क्लास का टिकट होने के बावजूद एक गोरे ने उन्हें रात को ट्रेन से उतार दिया। स्टेशन पर रात बितानी पड़ी। इसने उन्हें भारतीयों के साथ हो रहे भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाने की प्रेरणा दी।

दक्षिण अफ्रीका में उन्होंने प्रवासी भारतीयों के अधिकारों और रंगभेद नीति के खिलाफ सफल आंदोलन किए। तब तक उनकी ख्याति भारत पहुंच चुकी थी। 1915 में जब भारत लौटे तो बंबई में स्वागत करने कई कांग्रेस नेता पहुंचे। गोपालकृष्ण गोखले भी इनमें से एक थे। गोखले को गांधीजी का राजनीतिक गुरु कहा जाता है। गोखले की सलाह पर ही गांधीजी ने देश का भ्रमण किया। 1917 में चंपारण से नील आंदोलन की शुरुआत की और सफलता मिली। इसने गांधीजी की लोकप्रियता कई गुना बढ़ा दी। 1918 में उन्होंने खेड़ा (गुजरात) आंदोलन का नेतृत्व किया।

बाल गंगाधर तिलक के निधन के बाद गांधी कांग्रेस के बड़े नेता माने जाते थे। 1919 के जलियांवाला बाग हत्याकांड के बाद उन्होंने अंग्रेजों से मिले सभी पुरस्कार लौटा दिए। रोलेट एक्ट के खिलाफ सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरू किया। 1930 में गांधीजी ने दांडी मार्च किया। इसके बाद नमक सत्याग्रह किया। राजनीति से दूर होने के बाद भी वे 1942 में अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल हुए। इस दौरान आजाद हिंद फौज की सक्रियता, नौसेना विद्रोह और दूसरे विश्वयुद्ध से बने हालात को देखते हुए अंग्रेजों ने भारत छोड़ने का मन बना लिया था। इस बीच, 15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हो गया। हालांकि, बंटवारा हुआ और भारत-पाकिस्तान दो देश बने।

महात्मा गांधी के विचारों में सबसे ताकतवर था अहिंसा का विचार। इस विचार को दुनिया के कई देशों में क्रांति और विरोध का हथियार बनाया गया। 15 जून 2007 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने प्रस्ताव पारित कर 02 अक्टूबर को अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस मनाने का फैसला किया था।

महत्वपूर्ण घटनाचक्र

1492ः ब्रिटेन के किंग हेनरी सप्तम ने फ्रांस पर आक्रमण किया।
1836 : प्रकृतिविद चार्ल्स डारविन अपने अध्ययन से जुड़ी महत्वपूर्ण सामग्री एकत्र कर इंग्लैंड लौटे।

1929 : महात्मा गांधी ने नवजीवन कार्यालय को सार्वजनिक न्यास बनाया।

1952: भारत में सामुदायिक विकास कार्यक्रम शुरू।

1955 : मद्रास के पेरंबूर में इंटिग्रल कोच फैक्टरी ने रेल का पहला डिब्बा बनाया।

1961: बंबई (अब मुंबई) में शिपिंग काॅरपोरेशन ऑफ इंडिया का गठन।

1968: मैक्सिको सिटी में ओलंपिक खेल शुरू होने से पहले छात्र-पुलिस संघर्ष में 25 की मौत।

1968: ब्रिटेन के इतिहास में एक महिला ने एक साथ छह बच्चों को जन्म दिया।

1971 : बिरला सदन को भारत के राष्ट्रपति ने देश को समर्पित किया। इसका नाम बदलकर गांधी सदन किया गया।

1982: ईरान की राजधानी तेहरान में बम विस्फोट। 60 लोगों की मौत, 700 घायल।

1985: भारत में दहेज निषेधाज्ञा संशोधन कानून अस्तित्व में आया।

1988: तमिलनाडु में मंडपम और पम्बन के बीच समुद्र के ऊपर सबसे लंबा पुल खुला।

2000 : रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन चार दिन की यात्रा पर नई दिल्ली पहुंचे।

2001: 19 देशों के संगठन नाटो ने अफगानिस्तान पर हमले के लिए हरी झंडी दी।
2004: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने कांगों में 5900 सैनिक भेजने का प्रस्ताव मंजूर किया।

2006: दक्षिण अफ्रीका ने परमाणु ईंधन आपूर्ति मामले पर भारत को समर्थन देने का फैसला किया।
2007: उत्तर कोरिया तथा दक्षिण अफ्रीका के बीच दूसरी शिखर बैठक का समापन।
2012: नाइजीरिया में बंदूकधारियों ने 20 छात्रों की हत्या की।

जन्म
1869 : भारत की आजादी में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले मोहनदास करमचंद गांधी।
1898ः बिहार के प्रमुख गांधीवादी कार्यकर्ता और स्वतंत्रता सेनानी प्रजापति मिश्र।
1900ः प्रसिद्ध बांग्ला पत्रकार और महिला क्रांतिकारी लीला नाग।
1904 : पूर्व प्रधानमंत्री और स्वतंत्रता सेनानी लाल बहादुर शास्त्री।
1924ः प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक तपन सिन्हा
1933ःहिंदी के प्रसिद्ध नाटककार शंकर शेष।
1942ः प्रसिद्ध फिल्म अभिनेत्री आशा पारेख।
1974ःभारतीय महिला हॉकी टीम की पूर्व कप्तान प्रीतम सिवाच।
1979ः अशोक चक्र से सम्मानित भारतीय सेना के जांबाज सैनिक हंगपन दादा।
1997ः भारतीय मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन।

निधन
1906 : विख्यात चित्रकार राजा रवि वर्मा।
1964ः भारत की प्रख्यात गांधीवादी, स्वतंत्रता सेनानी और सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमारी अमृत कौर।
1975ः भारत रत्न सम्मानित और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री के. कामराज।
1982ः भारत के पूर्व वित्तमंत्री सी.डी. देशमुख।

दिवस
गांधी जयंती (अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस)
लाल बहादुर शास्त्री जयंती
वन्यजीव सप्ताह (2 अक्टूबर से 8 अक्टूबर)

0Shares
[sharethis-inline-buttons]

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें