बाल एवं किशोर श्रमिकों को नियोजित करना एक अपराध है. इस अपराध के लिए दुकानदार, ईट भट्ठा एवं अन्य प्रतिष्ठानों के मालिकों को 6 माह से 2 वर्ष तक के कारावास, 20 हज़ार से 50 हज़ार तक का आर्थिक दंड या दोनों का प्रावधान है.Read More →