सरफ़रोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है। देखना है ज़ोर कितना, बाज़ु-ए-कातिल में है? वक़्त आने दे बता, देंगे तुझे ऐ आसमाँ! हम अभी से क्या बतायें, क्या हमारे दिल में है?                                  Read More →