प्रतिनियोजन की आड़ में मौज उड़ा रहे सारण के सैकड़ों शिक्षक

प्रतिनियोजन की आड़ में मौज उड़ा रहे सारण के सैकड़ों शिक्षक

छपरा: प्राथमिक शिक्षा के निदेशक के पत्र के बावजूद जिले के सैकड़ों शिक्षक प्रतिनियोजन पर रहकर ड्यूटी बजा रहे है. इस कार्य में जहाँ एक ओर निर्देश की अवहेलना पदाधिकारी एवं शिक्षक कर रहे है वहीं विद्यालय आने वाले छात्रों के भविष्य से भी खिलवाड़ हो रहा है.

प्रतिनियोजन को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों की बात कौन कहे जिला मुख्यालय में सैकड़ों शिक्षक प्रतिनियुक्त है. सूत्रों की माने तो सारण के जिला मुख्यालय से लेकर प्रखंड के बीआरसी स्तर तक करीब 500 से अधिक शिक्षक शिक्षिकाएं किसी ना किसी कार्य का हवाला देकर प्रतिनियोजन पर है. कई स्थानों पर तो प्रतिनियोजन के बहाने शिक्षक शिक्षिकाएं दुसरे प्रदेशों में आराम फरमा रहे है.

सुविधा शुल्क और मिलीभगत से यह कार्य अत्यंत प्रगति पर है. एक हज़ार से दो हज़ार रूपये में आसानी से प्रतिमाह प्रतिनियोजन हो जाता है. आये दिन मिल रही सूचनाओं एवं शिकायतों के कारण विगत 10 फ़रवरी 2016 को प्राथमिक शिक्षा निदेशक एम रामचंदुडू द्वारा सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी को पत्र भेजते हुए चुनाव, आपदा एवं दस वर्षीय जनगणना कार्य को छोड़कर सभी तरह के प्रतिनियोजन को रद्द करने का निर्देश दिया गया. साथ ही 20 फरवरी तक एक प्रतिवेदन भी मांगा गया था. जिसके आलोक में डीईओ सारण ने भी सभी बीईओ को पत्र भेजकर प्रतिनियोजन रद्द करने एवं प्रतिनियोजन पर एक भी शिक्षक के नही होने का प्रतिवेदन मांगा गया. हालांकि इस पत्र के आलोक में 20 प्रखंड में कई प्रखंड ने प्रतिवेदन सौप दिया है. लेकिन शिक्षक-शिक्षिकाएं प्रतिनियोजन पर डटें हुए है.

ग्रामीण क्षेत्रों के दर्ज़नों शिक्षक-शिक्षिकाएं पदाधिकारियों की सह पर पिछले कई वर्षों से जिला मुख्यालय में या तो बिना पत्र कार्यालय में प्रतिनियुक्ति है. जिनकी न तो कही उपस्थिति दर्ज होती है और ना ही अनुपस्थिति विवरणी ही भेजी जाती है. लेकिन वेतन जरुर समय पर मिल जाता है.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें