सोनपुर मेला: सिक्की कला से बने हस्तशिल्प सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र

सोनपुर मेला: सिक्की कला से बने हस्तशिल्प सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र

Chhapra (सोनपुर मेला से सुरभित दत्त की रिपोर्ट): मधुबनी जिले के जयनगर प्रखंड के उसराही की रहने वाली राजदा खातून ने हरिहर क्षेत्र सोनपुर मेला के आर्ट एंड क्राफ्ट ग्राम में सीक की कलाकृति (सिक्की कला) की प्रदर्शनी लगायी है. राजदा खातून प्राचीन हस्तशिल्पों में से एक सीक की कला को संजोकर रखते हुए इस कला के गुर सिखाकर अपने जैसी अन्य महिलाओं को भी स्वाबलंबी बना रही है.

छपरा टुडे डॉट कॉम से बातचीत में राजदा बताती है कि उन्होंने सिक्की कला अपनी दादी से सीखी थी. अपनी हस्तशिल्प कला को उन्होंने अपने व्यवसाय का जरिया बना लिया. इसके माध्यम से उन्होंने अपने गाँव की लगभग 80 महिलाओं को रोजगार के साधन उपलब्ध कराये. वही अपनी बेटियों को भी इस हस्तशिल्प को सिखलाया ताकि आने वाली पीढ़ियों में भी ऐसी कला जीवित रहे. साथ ही राज्य स्तर पर अवार्ड भी जीते है.

इसे भी पढ़े: सोनपुर मेला में पहुंचे सैलानियों से जिला प्रशासन ले रहा है Feedback

उन्होंने बताया की मिथिलांचल में सिक्की घास, मुंज घास और खर से विभिन्न प्रकार के सामानों का निर्माण किया जाता है. इस सामानों को शादी-विवाह के अवसर पर बेच कर जीविकोपार्जन भी किया जाता है. पोखर, दियारा और तालाबों में उपजी घास को काट कर उससे इसका निर्माण किया जाता है. साथ ही इससे बनी हुई अनेक प्रकार की कलाकृतियों को बाजार में बेचा जाता है. इस कला को और लोग जाने इसके लिए मेला में प्रदर्शनी लगायी गयी है. 

उन्होंने बताया कि सीक के कलाकृतियों को बनाने में कई दिन लगते है पर जब उसे बेचने के लिए ग्राहकों के समक्ष रखा जाता है तो सही दाम नहीं मिल पाता. एक हस्तशिल्प को बनाने में कलाकार के द्वारा की गयी मेहनत का लोग सही कद्र नहीं करते और उचित कीमत देने में कतराते है. उन्होंने बताया कि सरकार की मदद से इस कला को बचाने के प्रयास हो रहे है पर सरकार को और भी सोचना चाहिए, ताकि जो लोग इस तरह के हस्तशिल्प को बनाते हुए प्राचीन शिल्प कला को जीवंत किये हुए है उन्हें सहायता मिल सके.

आज के दौर में जब प्लास्टिक के बर्तन और कलाकृतियों को लोग ज्यादा पसंद कर रहे है वैसे में इको फ्रेंडली इन सामानों को बनाने वालों को अब ज्यादा जूझना पर रहा है. बावजूद इसके इस प्राचीन हस्तशिल्प हो बचाने और नयी पीढ़ी तक पहुँचाने में अपनी भूमिका निभा रही है.   

Video में देखिये खास बातचीत

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें