जेपीयू में वेतनमान घोटाले का आरोप निराधार: कर्मचारी महासंघ

जेपीयू में वेतनमान घोटाले का आरोप निराधार: कर्मचारी महासंघ

Chhapra: बिहार राज्य विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय कर्मचारी महासंघ जयप्रकाश विश्वविद्यालय प्रक्षेत्र ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर एक छात्र संगठन द्वारा कर्मचारियों के वेतन निर्धारण को गलत ठहराते हुए विश्वविद्यालय द्वारा तीस करोड़ राशि के भुगतान में घोटाले के आरोपो को गलत बताया है.

कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष और सचिव के हस्ताक्षर से जारी विज्ञप्ति में इसकी निंदा करते हुए इसे समुचित तथ्यों को बिना जाने समझे ही आवेश में आकर जारी किया गया बयान करार दिया है. साथ ही कुलपति तथा विश्वविद्यालय की छवि को धूमिल तथा समाज को दिग्भ्रमित करने का आरोप लगाया है.

महासंघ ने कहा है कि वेतन का निर्धारण सर्वोच्च न्यायालय द्वारा सिविल अपील पारित न्यायादेश के अनुपालन में राज्य सरकार द्वारा निर्गत पत्र के आलोक में किया गया है. कर्मचारी संघ ने बताया है कि वेतनमान के अनुसार ही छठे वेतन आयोग द्वारा किए गए प्रावधानों के तहत विश्वविद्यालय द्वारा वेतन का निर्धारण किया गया है जिसकी पुष्टि राज्य सरकार के पत्र द्वारा किया जा सकता है.

बता दें कि रविवार को शोष विद्यार्थी संगठन ने विश्वविद्यालय में वेतन निर्धारण में अनियमितता का आरोप लगते हुए जांच की मांग की थी.

इसे भी पढ़े:  जेपीयू में निर्धारित वेतनमान से अधिक का भुगतान कर पैसों का हुआ बंदरबांट: RSA

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें