खेतो में जीरो टिलेज विधि से की गयी गेहूं की बुआई

नगरा: प्रखंड के खैरा पंचायत के खैरा ,भदोरहिया गांव के किसान ने अपनी खेतो में जीरो टिलेज विधि से गेहूं की बुआई की गयी. वहीं जागृत किसानों ने कृषि सलाहकार अलोक कुमार चौबे , कृष्णा राय, राम नगीना प्रसाद, मनोज कुमार एवं कमलेश्वर राय की देखरेख में गेहूं की बुआई की.

किसान शंकर कुशवाहा,बृजकिशोर सिंह इन किसानों के खेतों में इस तकनीक से फसल की बुआई हुई. कृषि समन्वयक ने जीरो टिलेज विधि के बारे में बताया कि शून्य जुताई विधि से खेती करने में बार-बार खेतों की जुताई नहीं करनी पड़ती है. जिससे किसानों को जुताई के खर्च में बचत होती है. इस विधि में बीज की खपत भी कम होती है. क्योंकि बीज समान दूरी पर खेतों में मशीन के माध्यम से गिरती है. एक पौधे से दूसरे पौधे की दूरी 10 इंच होती है. जिस कारण खेतों में अनावश्यक खरपतवार कम उगते हैं. जिस कारण खेतों में पानी की खपत भी कम होती है. खेतों में ज्यादा खर-पतवार जब नहीं होते हैं तो चूहे का आक्रमण भी कम हो जाता है.

इन सभी फायदे के वजह से किसानों को खेती करने में जहां पैसों की बचत होती वहीं उपज की मात्रा में भी वृद्धि हो जाती है. जागृत किसान अब इस जीरो टिलेज विधि से खेती करना ज्यादा फायदेमंद है।

0Shares
A valid URL was not provided.