आपकी कलम से: माँ ईश्वर की बनाई श्रेष्ठतम कृति

आपकी कलम से: माँ ईश्वर की बनाई श्रेष्ठतम कृति

मदर्स डे हर साल माँ के सम्मान में मनाया जाता है. मदर्स डे मनाने का चलन नार्थ अमेरिका से शुरू हुआ. इस दिन बच्चों द्वारा अपनी माँ को सम्मान दिया जाता है. यह दिन समाज में माँ के प्रभाव को बढ़ाने के लिए मनाया जाता है. मदर्स डे हर साल हर अलग-अलग देशों में अलग-अलग तारीखों पर मनाया जाता है.

मदर्स डे पर आप भी अपनी माँ के लिए तमाम तरीके के तोहफे खोज रहे होंगे. कुछ ने तो सप्राइज भी प्लान किया होगा. उन्हें स्पेशल फील करवाने के लिए आप इतना कुछ कर रहे हैं. वो इससे खुश होंगी, वो यही तो चाहती हैं… नहीं? पर क्या आप वाकई जानते हैं कि वो क्या चाहती है? सच पूछिए तो वो सिर्फ आपकी सलामती चाहती हैं और बस इतना कि आप उन्हें भूलें नहीं. ये स्वार्थ नहीं है ये उनके दिल का डर है जो कभी नहीं जाता कि उनका बच्चा हाथ छुड़ा कर दूसरी दुनिया में गुम ना हो जाएगा.

आइए आज हम सब प्रण ले कि आजीवन हम अपनी माँ के भावनाओं क़दर करेंगे क्योंकि माँ ईश्वर की बनाई श्रेष्ठतम कृति है.

यह लेखक के अपने विचार है

यह लेख हमें हमारे पाठक शशिकांत कुमार ने भेजी है.

आप भी हमें भेज सकते है अपने लेख/संस्मरण/कविता/कहानी. हमें अपने लेख chhapratoday@gmail.com पर भेजें.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.