लोक कलाकार अनुभूति शांडिल्य उर्फ तिस्ता की पुण्यतिथि पर श्रद्वांजलि सभा का हुआ आयोजन

लोक कलाकार अनुभूति शांडिल्य उर्फ तिस्ता की पुण्यतिथि पर श्रद्वांजलि सभा का हुआ आयोजन

Chhapra/Rivilganj:  लोक कलाकार दिवंगत अनुभूति शांडिल्य उर्फ तिस्ता के तीसरी पुण्यतिथि पर श्रद्वांजलि सभा का आयोजन नगर पंचायत कार्यालय, रिविलगंज के सभागार में शनिवार को हुआ. श्रद्वांजलि सभा में वक्ताओं ने तिस्ता के नाम पर संगीत महाविद्यालय और राज्यकीय पुरस्कार देने सरकार से माँग किया.

भोजपुरी -संगीत जगत के ख्याति प्राप्त कलाकारा एवं भोजपुरी के गौरैया नाम से प्रसिद्ध दिवंगत अनुभूति शांडिल्य उर्फ तिस्ता का तीसरी पुण्यतिथि पर उपस्थित सैकड़ों लोगों ने चित्र पर पुष्प अर्पित कर भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की.

इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष राम दयाल शर्मा कहा कि कलाकार केवल अपने माता-पिता एवं घर-परिवार का ही नहीं बल्कि पुरा देश- दुनिया का नाम रौशन करता है. तिस्ता आज हमारे बीच नहीं है लेकिन यादों में और एक कलाकार के रूप में हमेशा अमर है और सदियों तक अमर रहेगी. उन्होंने कहा कि भोजपुरी शुर कोकिला व दिवंगत तिस्ता के नाम से राजकीय पुरस्कार लागू करने के लिए सरकार के पास प्रस्ताव भेजा जाएगा. वही रिटायर्ड डीएसपी राम नाथ सिंह ने कहा कि रिविलगंज के घर के आंगन से निकली तिस्ता बहुत ही कम समय में अपनी प्रतिभा का बेहतर प्रदर्शन कर पुरे देश को गौरवान्वित कर गयी. लेकिन आंखों में आंसू भर आता अब जब उसको हम देख नहीं पाते हैं. उन्होंने कहा कि बाबू वीर कुंवर सिंह की जीवन गथा प्रस्तुत कर प्रतिभा के क्षेत्र में तिस्ता का प्रदर्शन का दुसरा उदाहरण नहीं है.

उन्होंने कहा कि दिवंगत व भोजपुरी की कलाकार तिस्ता के नाम पर एक संगीत महाविद्यालय की स्थापना करने के दिशा में सार्थक प्रयास करना ही उसके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

विदित हो कि रिविलगंज बाजार के मूल निवासी व लोक गायक उदय नारायण सिंह के पुत्री तिस्ता की पहचान बहुत ही कम समय में देश-दुनिया में हो गई थी. बिहार की एक मात्र लोकगथा गायिका तिस्ता मात्र सत्रह वर्ष की अवस्था में अस्सी वर्ष के कुंवर सिंह जी के व्यक्तित्व को मंच के माध्यम से सांगीतिक प्रस्तुत कर उसने राष्ट्रीय स्तर पर गाथा गान- ब्यास शैली को स्थापित कर अपनी प्रतिभा का परचम लहराया था. उस गथा को देश स्तर पर काफी सराहना हुई थी और आज भी संगीत प्रेमी उस गथा को बारबार सुनना पसंद करते हैं. लेकिन दुःख इस बात का है कि मात्र साढ़े सत्रह वर्ष के अल्प आयु में आज से ठीक तीन साल पहले काल कल्पित हो गई.

इस अवसर पर रिविलगंज नगर पंचायत के मुख्य पार्षद प्रतिनिधि मुकेश कुमार यादव उर्फ सोनू यादव, मनजीत नारायण सिंह, जाकिर अली, बसंत कुमार सिंह, रामेश्वर गोप, सोहैल अहमद, सुधांशु शर्मा आदि उपस्थित थे.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें