इतिहास के पन्नों मेंः 22 जुलाई

इतिहास के पन्नों मेंः 22 जुलाई

तिरंगे से जुड़ा खास दिनः भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सफर में 22 जुलाई 1947 राष्ट्रीय ध्वज से जुड़ा एक यादगार दिन है। इसी दिन संविधान सभा ने तिरंगे को राष्ट्रीय ध्वज के रूप में अंगीकार किया।

तीन रंगों वाली क्षैतिज पट्टियों के बीच नीले रंग के चक्र द्वारा सुशोभित ध्वज की परिकल्पना पिंगली वेंकैया ने की थी। इसमें तीन समान चौड़ाई की क्षैतिज पट्टियां हैं जिसमें सबसे ऊपर केसरिया, बीच में श्वेत और नीचे हरे रंग की पट्टी है। सफेद पट्टी के मध्य गहरे नीले रंग का एक चक्र है जिसमें 24 आरे हैं जो इस बात का प्रतीक है कि भारत निरंतर प्रगतिशील है।

चक्र का व्यास लगभग सफेद पट्टी की चौड़ाई के बराबर होता है और इसका रूप सारनाथ स्थित अशोक स्तंभ के शेर के शीर्षफलक के चक्र में दिखने वाले की तरह है। राष्ट्रध्वज भारत की एकता, शांति और समृद्धि को दर्शाता है।

अन्य अहम घटनाएंः

1731ः स्पेन ने वियना संधि पर हस्ताक्षर किए।

1918ः भारत के पहले कुशल पायलट इंद्रलाल राय की प्रथम विश्वयुद्ध के समय संदन में जर्मनी से हुए युद्ध में मौत हुई।

1981ः भारत के पहले भूस्थिर उपग्रह एपल ने कार्य करना शुरू किया।

1988ः अमेरिका के पांच सौ वैज्ञानिकों ने पेंटागन में जैविक हथियार बनाने के शोध के बहिष्कार की प्रतिज्ञा ली।

2001ः शेर बहादुर देउबा नेपाल के प्रधानमंत्री बने।

2003ः इराक में हवाई हमले में तानाशाह सद्दाम हुसैन के दो बेटों की मौत।

2012ः प्रणब मुखर्जी भारत के 13वें राष्ट्रपति निर्वाचित।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें