बिपिन रावत, कल्याण सिंह को पद्म विभूषण, गुलाम नबी आजाद पद्म भूषण से सम्मानित

बिपिन रावत, कल्याण सिंह को पद्म विभूषण, गुलाम नबी आजाद पद्म भूषण से सम्मानित

नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर मंगलवार को वर्ष 2022 के लिये प्रतिष्ठित पद्म पुरस्कारों की घोषणा की गई। पद्म विभूषण के लिए सीडीएस जनरल बिपिन रावत (मरणोपरांत) और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (मरणोपरांत) का नामों की घोषणा की गयी है। जबकि कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद और पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य को पद्म भूषण से सम्मानित किया गया है।

देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान में से एक पद्म पुरस्कारों में वर्ष 2022 के लिये 128 हस्तियों को चुना गया है। इनमें चार पद्म विभूषण, 17 पद्म भूषण और 107 पद्मश्री शामिल हैं। वहीं दो को संयुक्त रूप से पुरस्कृत किया गया है। इनमें 34 महिलाओं को पुरस्कृत किया गया है, जबकि 10 व्यक्ति भारत से बाहर रहने वाले हैं। साथ ही मरणोपरांत 13 लोगों को यह पुरस्कार दिया गया है।

पद्म विभूषण के लिए शास्त्रीय संगीत गायिका प्रभा अत्रे, गीता प्रेस गोरखपुर के अध्यक्ष रहे राधेश्याम खेमका (मरणोपरांत), सीडीएस जनरल बिपिन रावत (मरणोपरांत) और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह (मरणोपरांत) को चुना गया है।

पद्म भूषण के लिए कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य, कोविड-19 से जुड़ी वैक्सीन बनाने वाले सीरम इंस्टीट्यूट के साइरस पूनावाला एवं भारत बायोटेक के कृष्णा और शुचिता एला का नाम शामिल है। इसके अलावा माइक्रोसॉफ्ट के प्रमुख सत्य नारायण नडेला, गूगल के प्रमुख सुंदर पिचाई, पूर्व गृह सचिव राजीव महर्षि, पैरा एथलिट देवेंद्र झाझरिया, टाटा सन के चेयरपर्सन नटराजन चंद्रशेखरन, पंजाब की लोक गायिका गुरमीत बावा (मरणोपरांत), फिल्म अभिनेता विक्टर बैनर्जी और भोजन और यात्रा लेखक व टीवी प्रस्तुतकर्ता मधुर जाफरी का नाम शामिल है।

उड़िया लेखिका प्रतिभा रे, गुजरात से लेखक स्वामी सच्चिदानंद और संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति वशिष्ठ त्रिपाठी और कला क्षेत्र से राशिद खान का नाम भी पद्म भूषण में शामिल है।

पद्मश्री पाने वालों में ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा और गायक सोनू निगम का नाम शामिल है। इनके ओलंपिक खेलों में मेडल जीतने वाले सुमित अंतिल, भारत की फील्ड हॉकी प्लेयर वंदना कटारिया, पैरालंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाली अवनी लेखरा और लद्दाख के सांसद जामयांग शेरिंग नांग्याल, फिल्म निर्देशक और पटकथा लेखक चंद्रप्रकाश द्विवेदी शामिल हैं।

गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट कर कहा कि समाज की सेवा के लिए अथक परिश्रम करने वाले निस्वार्थ व्यक्तियों के योगदान के बिना कोई भी राष्ट्र उत्कृष्ट नहीं हो सकता है। उन सभी को बधाई, जिन्हें पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हमारे असली नायकों का सम्मान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

पद्मश्री से सम्मानित व्यक्तियों की सूची इस प्रकार है- प्रहलाद राय अग्रवाल, व्यापार और उद्योग पश्चिम बंगाल; प्रो. नजमा अख्तर, साहित्य और शिक्षा दिल्ली; सुमित अंतिल, स्पोर्ट्स हरियाणा; टी सेनका एओ, साहित्य और शिक्षा नागालैंड; सुश्री कमलिनी अस्थाना और नलिनी अस्थाना, (जोड़ी) कला उत्तर प्रदेश; सुब्बान्ना अय्यप्पन, विज्ञान और इंजीनियरिंग कर्नाटक; जे के बजाज, साहित्य और शिक्षा दिल्ली; सिरपी बालासुब्रमण्यम, साहित्य और शिक्षा तमिलनाडु; मद बाबा बलिया, सामाजिक कार्य ओडिशा; संघमित्रा बंद्योपाध्याय, विज्ञान और इंजीनियरिंग पश्चिम बंगाल; माधुरी बर्थवाल, कला उत्तराखंड; अखोन असगर अली बशारत, साहित्य और शिक्षा लद्दाख; डॉ. हिम्मतराव बावस्कर, मेडिसिन महाराष्ट्र; हरमोहिंदर सिंह बेदी, साहित्य और शिक्षा पंजाब; प्रमोद भगत, खेल ओडिशा; एस बलेश भजंत्री, कला तमिलनाडु; खांडू वांगचुक भूटिया, कला सिक्किम; मारिया क्रिस्टोफर, बायर्स्की साहित्य और शिक्षा पोलैंड; आचार्य चंदनाजी, सामाजिक कार्य बिहार; मुक्तामणि देवी, व्यापार और उद्योग मणिपुर; श्याममणि देवी, कला उड़ीसा; खलील धनतेजविक (मरणोपरांत), साहित्य और शिक्षा गुजरात; सावजी भाई ढोलकिया, सामाजिक कार्य गुजरात; अर्जुन सिंह धुर्वे, कला मध्य प्रदेश; डॉ. विजयकुमार विनायक, डोंगरे मेडिसिन महाराष्ट्र; चंद्रप्रकाश द्विवेदी, कला राजस्थान; धनेश्वर एंगती, साहित्य और शिक्षा असम; सुश्री सुलोचना चव्हाण, कला महाराष्ट्र; नीरज चोपड़ा, खेल हरियाणा; शकुंतला चौधरी, सामाजिक कार्य असम; शंकरनारायण मेनन चुंडायिल, स्पोर्ट्स केरल; आदित्य प्रसाद दास, विज्ञान और इंजीनियरिंग ओडिशा; डॉ. लता देसाई, मेडिसिन गुजरात; मालजी भाई देसाई, पब्लिक अफेयर्स गुजरात; बसंती देवी, सामाजिक कार्य उत्तराखंड; लौरेम्बम बिनो देवी, कला मणिपुर; एस दामोदरन, सामाजिक कार्य तमिलनाडु; फैसल अली डार, खेल जम्मू और कश्मीर; जगजीत सिंह दर्दी, व्यापार और उद्योग चंडीगढ़; डॉ. प्रोकर दासगुप्ता, मेडिसिन यूनाइटेड किंगडम; ओम प्रकाश गांधी, सामाजिक कार्य हरियाणा; नरसिम्हा राव गरिकापति, साहित्य और शिक्षा आंध्र प्रदेश; गिरधारी राम घोंजु (मरणोपरांत), साहित्य और शिक्षा झारखंड; शैबल गुप्ता (मरणोपरांत), साहित्य और शिक्षा बिहार; नरसिंह प्रसाद गुरु, साहित्य और शिक्षा ओडिशा; गोसावीदु शेख हसन (मरणोपरांत), कला आंध्र प्रदेश; रयुको हीरा, व्यापार और उद्योग जापान; सोसम्मा इयपे, अन्य – पशुपालन केरल; अवध किशोर जड़िया, साहित्य एवं शिक्षा मध्य प्रदेश; सौकार जानकी, कला तमिलनाडु; तारा जौहर, साहित्य और शिक्षा दिल्ली; वंदना कटारिया, खेल उत्तराखंड; एच आर केशवमूर्ति, कला कर्नाटक; ब्रह्मानंद सांखवलकर, स्पोर्ट्स गोवा; विद्यानन्द सरेक, साहित्य और शिक्षा हिमाचल प्रदेश; काली पाड़ा सरें, साहित्य और शिक्षा पश्चिम बंगाल; डॉ. वीरस्वामी शेषिया, चिकित्सा तमिलनाडु; प्रभाबेन शाह, सामाजिक कार्य दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव; दिलीप शाहनी, साहित्य और शिक्षा दिल्ली; राम दयाल शर्मा, कला राजस्थान; विश्वमूर्ति शास्त्री, साहित्य और शिक्षा जम्मू और कश्मीर; तातियाना ल्वोव्ना शौमयान, साहित्य और शिक्षा रूस; सिद्धलिंगैया (मरणोपरांत), साहित्य और शिक्षा कर्नाटक; रटगर कोर्टेनहॉर्स्ट, साहित्य और शिक्षा आयरलैंड; पी नारायण कुरुप, साहित्य और शिक्षा केरल; अवनि लेखारा, स्पोर्ट्स राजस्थान; मोती लाल मदन, विज्ञान और इंजीनियरिंग हरियाणा; शिवनाथ मिश्र, कला उत्तर प्रदेश; डॉ नरेंद्र प्रसाद मिश्रा (मरणोपरांत), चिकित्सा मध्य प्रदेश; दर्शनम मोगिलैया, कला तेलंगाना; गुरुप्रसाद महापात्र (मरणोपरांत), सिविल सेवा दिल्ली; थविल कोंगमपट्टू ए वी.मुरुगईयन, कला पुडुचेरी; आर मुथुकन्नमल, कला तमिलनाडु; अब्दुल खादर नादकत्तिन, अन्य – जमीनी स्तर पर नवाचार कर्नाटक; अमाई महालिंग नाइक, अन्य – कृषि कर्नाटक; छेरिंग नामग्याल, कला लद्दाख; ए के सी नटराजन, कला तमिलनाडु; वी.एल. नघाका, साहित्य और शिक्षा मिजोरम; सोनू निगम, कला महाराष्ट्र; राम सहाय पांडे, कला मध्य प्रदेश; चिरापत प्रपंडविद्या, साहित्य और शिक्षा थाईलैंड; के वी राबिया, सामाजिक कार्य केरल; अनिल कुमार, राजवंशी; शीश रामन कला उत्तर प्रदेश; रामचंद्रैया, कला तेलंगाना; डॉ. सुनकारा वेंकट आदिनारायण राव, मेडिसिन आंध्र प्रदेश; गामित रमीलाबेन रायसिंहभाई, सामाजिक कार्य गुजरात; पद्मजा रेड्डी, कला तेलंगाना 100 गुरु तुल्कु रिनपोछे, अन्य – अध्यात्मवाद अरुणाचल प्रदेश; अजीता वास्तव, कला उत्तर प्रदेश; सद्गुरु ब्रह्मेशानंद आचार्य स्वामी, अन्य – अध्यात्मवाद गोवा; डॉ. बालाजी तांबे (मरणोपरांत), चिकित्सा महाराष्ट्र; रघुवेंद्र तंवर, साहित्य और शिक्षा हरियाणा; डॉ. कमलाकर त्रिपाठी, चिकित्सा उत्तर प्रदेश; ललिता वकील, कला हिमाचल प्रदेश; दुर्गा बाई व्याम, कला मध्य प्रदेश; जयंतकुमार मगनलाल व्यास, विज्ञान और इंजीनियरिंग गुजरात; बडापलिन युद्ध, साहित्य और शिक्षा मेघालय; काजी सिंह, कला पश्चिम बंगाल; कोन्सम इबोम्चा सिंह, कला मणिपुर; प्रेम सिंह, सामाजिक कार्य पंजाब; सेठ पाल सिंह, अन्य – कृषि उत्तर प्रदेश; विद्या विंदु सिंह, साहित्य एवं शिक्षा उत्तर प्रदेश; बाबा इकबाल सिंह जी, सामाजिक कार्य पंजाब; डॉ. भीमसेन सिंघल, मेडिसिन महाराष्ट्र; शिवानंद, अन्य – योग उत्तर प्रदेश; अजय कुमार सोनकर, विज्ञान एवं अभियांत्रिकी उत्तर प्रदेश; एच आर केशवमूर्ति, कला कर्नाटक।

भारत रत्न के बाद दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण को असाधारण और विशिष्ट सेवा के लिए प्रदान किया जाता है। उच्च कोटि की विशिष्ट सेवा के लिए पद्म भूषण और किसी भी क्षेत्र में विशिष्ट सेवा के लिए पद्म श्री पुरस्कार हर साल गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिये जाते हैं।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें