मैरीटाइम इंडिया समिट-2021 में पीएम मोदी बोले- ‘2030 तक 23 जलमार्गों को चालू करने का लक्ष्य’

मैरीटाइम इंडिया समिट-2021 में पीएम मोदी बोले- ‘2030 तक 23 जलमार्गों को चालू करने का लक्ष्य’

New Delhi: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को सुबह 11 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ‘मैरीटाइम इंडिया समिट 2021’ का शुभारंभ किया. इस शिखर सम्मेलन का आयोजन पत्तन, पोत परिवहन और जलमार्ग मंत्रालय द्वारा किया गया. बताना चाहेंगे दो से चार मार्च तक चलने वाले इस शिखर सम्मेलन के लिए डेनमार्क साझेदार देश है. सम्मेलन के दौरान अगले दशक के लिए भारत के समुद्री क्षेत्र को लेकर एक रोडमैप की संकल्पना की गई जिसे लेकर पीएम मोदी ने एक ई-बुक ‘मैरीटाइम इंडिया विज़न 2030’ भी रिलीज की. इसके साथ ही भारत वैश्विक समुद्री क्षेत्र में आगे बढ़ाने के लिए कार्य करेगा. इसके अलावा प्रधानमंत्री ने समुद्री वाणिज्य क्षेत्र जागरूकता केंद्र ‘सागर मंथन’ का भी शुभारंभ किया.

शिखर सम्मेलन के दौरान केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, केन्द्रीय पोत परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनसुख मांडविया, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी व गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी मौजूद रहे.

हमारें तटों पर सभ्यताएं फली-फूलीं

मैरीटाइम इंडिया समिट 2021 में पीएम मोदी ने संबोधन के दौरान कहा भारत में विशाल समुद्र तट हैं. हमारे राष्ट्र का एक समृद्ध समुद्री इतिहास है। हमारें तटों पर सभ्यताएं फली-फूलीं. हजारों वर्षों से हमारे बंदरगाह महत्वपूर्ण व्यापारिक केंद्र रहे हैं. हमारे तटों ने हमें दुनिया से जोड़ा.

दुनिया को विकास यात्रा का हिस्सा बनने के लिए किया आमंत्रित

पीएम मोदी ने कहा इस शिखर सम्मेलन के माध्यम से मैं दुनिया को हमारी विकास यात्रा का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित करता हूं. उन्होंने कहा भारत मैरीटाइम का नेचुरल लीडर है. हमारे देश के बंदरगाह दुनिया से जुड़े हैं और व्यापार के महत्वपूर्ण केंद्र हैं. मैं दुनिया से आग्रह करूंगा कि आइये हमारे ग्रोथ का हिस्सा बनिए. दुनिया की एक अग्रणी ब्लू इकोनॉमी के रूप में उभरने को लेकर भारत गंभीर है. हमारे बंदरगाहों ने आने-जाने वाले कार्गो के लिए प्रतीक्षा समय कम किया.

भारत ने कार्गो के लिए प्रतीक्षा समय कम किया

पीएम मोदी ने कहा भारतीय बंदरगाहों के पास अब इस तरह के उपाय हैं. आसान डेटा प्रवाह के लिए डायरेक्ट पोर्ट डिलीवरी, डायरेक्ट पोर्ट एंट्री और एक अपग्रेडेड पोर्ट कम्युनिटी सिस्टम (पीसीएस) है. उन्होंने कहा हमारे बंदरगाहों ने इनबाउंड और आउटबाउंड कार्गो के लिए प्रतीक्षा समय कम किया है.

2030 तक 23 जलमार्गों को चालू करने का लक्ष्य

प्रधानमंत्री ने कहा हमारी सरकार ऐसी सरकार है जो जलमार्ग में इस तरह निवेश कर रही है जैसा पहले कभी नहीं देखा गया था. उन्होंने बताया कि घरेलू जलमार्ग माल ढुलाई के लिए प्रभावी और पर्यावरण के अनुकूल तरीके हैं. साथ ही यह भी कहा कि हम 2030 तक 23 जलमार्गों को चालू करने का लक्ष्य रखते हैं.

Courtesy: PBNS

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें