जगदीप धनखड़ उपराष्ट्रपति निर्वाचित

जगदीप धनखड़ उपराष्ट्रपति निर्वाचित

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ शनिवार को उपराष्ट्रपति पद के लिए हुए मतदान के बाद आए नतीजों में निर्वाचित घोषित हुए हैं। लोकसभा महासचिव एवं उपराष्ट्रपति चुनाव के निर्वाचन अधिकारी उत्पल कुमार सिंह ने देर शाम उनके निर्वाचन की घोषणा की।

संसद भवन में आयोजित मतदान कार्यक्रम के बाद शाम को मतगणना हुई। उपराष्ट्रपति चुनाव के नतीजों की घोषणा करते हुए उत्पल कुमार सिंह ने बताया कि जीतने के लिए 346 मत आवश्यक थे। जगदीप धनखड़ को 528 मत प्राप्त हुए जबकि मार्गरेट अल्वा को 182 मत मिले। उन्होंने बताया कि 780 के निर्वाचक मंडल में कुल 725 सदस्यों ने मतदान में भाग लिया। इनमें से 15 के मत अमान्य पाए गए।

उल्लेखनीय है कि उपराष्ट्रपति पद के लिए राज्यसभा और लोकसभा के सांसद निर्वाचक मंडल का हिस्सा होते हैं। उपराष्ट्रपति पद के लिए आज हुए मतदान में 780 सांसद निर्वाचक मंडल में शामिल थे। इनमें से 725 ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। तृणमूल कांग्रेस ने मतदान में नहीं हिस्सा लिया। उनके 39 सांसदों ने मत नहीं डाला। मतदान कार्यक्रम सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक चला। मतदान कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और केंद्रीय मंत्रियों ने भाग लिया।

इस संबंध में निर्वाचक अधिकारी की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार उपराष्ट्रपति पद के लिए 50 नामांकन पत्र प्राप्त हुए थे। इनमें से केवल दो नाम ही सही पाए गए। इसमें राजग के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ और विपक्ष की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा थी। मतदान कार्यक्रम सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक चला जिसके बाद 6 बजे मतगणना का कार्य शुरू हुआ।

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने दी बधाई
उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने जगदीप धनखड़ को देश के 14वें उपराष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित होने पर फोन कर हार्दिक बधाई दी और उनके सफल कार्यकाल की कामना की। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक जीवन में आपके लंबे अनुभव तथा न्याय और विधि के क्षेत्र में आपके ज्ञान से देश लाभान्वित होगा। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू का कार्यकाल 10 अगस्त को समाप्त हो रहा है।

विपक्षी उम्मीदवार अल्वा ने दी धनखड़ को बधाई
मतदान के नतीजे आने के बाद विपक्ष की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा ने धनखड़ को उपराष्ट्रपति बनने की बधाई दी। उन्होंने विपक्ष के नेताओं और विभिन्न पार्टियों के सांसदों को उन्हें वोट करने के लिए धन्यवाद दिया।

अल्वा ने कहा कि इस चुनाव में विपक्ष को एक साथ काम करने का अवसर प्रदान किया था। हालांकि यह दुखद है कि विपक्षी पार्टियों ने सीधे और अप्रत्यक्ष तौर पर भाजपा को सहयोग दिया और संयुक्त विपक्ष का विचार पटरी से उतारने का काम किया।

उन्होंने कहा कि इस तरह की कृतियों से उन पार्टियों ने और उनके नेताओं ने अपनी साख को नुकसान पहुंचाया है। अंत में उन्होंने कहा कि चुनाव समाप्त हो चुका है लेकिन संविधान, लोकतंत्र को मजबूत करने और संसद की गरिमा को लौटाने के लिए संघर्ष जारी रहेगा।

0Shares

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें