पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, भूपेन हजारिका, समाजसेवी नानाजी देशमुख को भारत रत्न

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी, भूपेन हजारिका, समाजसेवी नानाजी देशमुख को भारत रत्न

New Delhi: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर देश के तीन जानेमाने हस्तियों को भारत रत्न देने की घोषणा की है.

इन तीन हस्तियों में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, डॉ. भूपेन हजारिका और नानाजी देशमुख शामिल है. डॉ. भूपेन हजारिका और नानाजी देशमुख को मरणोपरांत भारत रत्न दिया जा रहा है. 

भारत के 13वें राष्ट्रपति थे प्रणब मुखर्जी
प्रणब मुखर्जी 2012 से 2017 तक भारत के 13वें राष्ट्रपति रहे थे. अपने पांच दशकों के राजनीतिक जीवन में वह कई अहम पदों पर रहे. यूपीए सरकार में वह रक्षा, विदेश और वित्त मंत्री भी थे. वे कांग्रेस के बड़े नेताओं में शुमार है.

गीतकार, संगीतकार, गायक, कवि और फिल्म-निर्माता भूपेन हजारिका
असम में जन्मे भूपेन हजारिका, गीतकार, संगीतकार, गायक, कवि और फिल्म-निर्माता थे. उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर असम और पूर्वोत्तर भारत के संस्कृति और लोक संगीत को हिंदी सिनेमा के माध्यम से पेश किया था. हजारिका को 1975 में सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशन के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार, संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार (1987), पद्मश्री (1977), और पद्मभूषण (2001) मिला था.

समाजसेवी नानाजी देशमुख
नानाजी देशमुख भारत के एक सामाजिक कार्यकर्ता थे. उनका पूरा नाम चंडिकादास अमृतराव देशमुख था. नानाजी ने उन्होंने शिक्षा, स्वास्थ्य और ग्रामीण आत्मनिर्भरता के क्षेत्र में काम किया. उन्हें इसके पूर्व पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया जा चूका है.

भारत रत्न, देश का वो सर्वोच्च नागरिक सम्मान है. जो असाधारण राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है.

 

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.