सारण के सोनपुर में गिर नस्ल की गाय के दर्शन के लिए पहुँच रहे लोग

सारण के सोनपुर में गिर नस्ल की गाय के दर्शन के लिए पहुँच रहे लोग

Sonpur: सारण के हरिहर क्षेत्र की पावन भूमि पर एक अद्भुत गाय की चर्चा हर किसी की जुबान पर है. सोनपुर थाना में लायी गई गिर नस्ल की गाय के दर्शन करने के लिए लोग जुट रहे हैं. इस गाय का दर्शन करके लोग कृतार्थ होना चाहते हैं. धार्मिक रूप से भी इस गाय की चर्चा हो रही है. कारण यह है कि इस गाय के मस्तक पर भोले भंडारी भगवान शंकर के त्रिशूल की छाप नजर आ रहा है. आपको बता दें कि गिर नस्ल की जाय प्राथमिक देशी नस्लों में से एक है. द्वापर युग में भगवान श्री कृष्ण के पास भी इसी नस्ल की गाय थी.

दअरसल सोनपुर थाने में पदस्थापित पुलिस इंस्पेक्टर दयानंद सिंह ने इसे अपने कार्यकाल के दौरान बक्सर में राजस्थान से खरीद कर मंगाया था. बताया जाता है कि गिर नस्ल की गाय विरले ही मिलती हैं. इसके कई आयुर्वेदिक औषधिय गुण भी हैं. जब से यह गाय सोनपुर थाने में आयी है तब से लोग इसके दर्शन करने पहुंच रहे हैं.

थानाध्यक्ष के अनुसार इसके मूत्र के सेवन से कैंसर जैसी असाध्य बीमारी के प्रकोप को भी कम तथा समाप्त किया जा सकता है. उन्होंने बताया इस गाय को देखने के लिए सारण जिले से ही नहीं अपितु दूसरे जिलों से भी लोग सोनपुर थाना पहुंच रहे हैं. गौ सेवा के उद्देश्य से खरीदी गाय.

यहां की आम जनता तो इस गाय के दर्शन से अपने को सौभाग्यशाली मान रही है. सोनपुर थानाध्यक्ष ने बताया कि गौ सेवा के उद्देश्य उन्होंने गाय को खरीदी. लेकिन जब से वह सोनपुर पहुंचने कई लोग इस गाय को खरीदने के लिए मोटी रकम दे रहे हैं. लेकिन उन्होंने सब को मना कर दिया.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें