अंतरराष्ट्रीय योग दिवस: शारीरिक और मानसिक रूप से शांति के लिए योगाभ्यास की महत्वपूर्ण भूमिका

Chhapra: योग से शारीरिक, मानसिक एवं आध्यात्मिक रूप से हर व्यक्ति पूरी तरह से स्वस्थ्य रह सकता है। क्योंकि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण काल यानी कोविड काल के दौरान रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत रखने के लिए इसका महत्व और भी अधिक बढ़ गया था।


सिविल सर्जन डॉ सागर दुलाल सिन्हा ने कहा कि नियमित रूप से योग अपना कर अवसाद से होने वाली बीमारियों के अलावा तनाव और अनिंद्र को भी आसानी से दूर किया जा सकता है।

सबसे अहम बात यह है कि योग की प्रमुख क्रियाओं में सूर्य नमस्कार, प्राणायाम, मंडूकासन, शशकासन, ताड़ासन, तिर्यक ताड़ासन, उष्ट्रासन, योगमुद्रासन, गोमुखासन, भुजंगासन, पादहस्तासन, पवनमुक्तासन, मर्कटासन, वक्रासन, कटिचक्रासन, भुजंगासन आदि मुख्य रूप से शामिल किया गया हैं जो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक माना गया हैं।

जिले के सभी स्वास्थ्य केंद्रों के एमओआईसी को दिया गया आवश्यक दिशा- निर्देश: सिविल सर्जन
सिविल सर्जन डॉ सागर दुलाल सिन्हा ने बताया कि जिले के सभी स्वास्थ्य संस्थानों में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाए जाने को लेकर सभी स्वास्थ्य केंद्रों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा- निर्देश दिया गया है।

क्योंकि योगाभ्यास के माध्यम से कई तरह की प्रक्रियाएं अपनाने से फेफड़ों में रक्तसंचार बढ़ती है। वहीं प्राणायाम श्वसन तंत्र को मजबूत बनाने के लिए एक विशेष योगाभ्यास है। श्वसन क्रिया के दौरान गहरी सांस लेते हुए वायु को अंदर की ओर खींचते हैं। सांस को अधिक से अधिक समय तक रोके रखते हैं और अंत में धीरे- धीरे सांस छोड़ते हैं।

इससे शरीर को आवश्यक मात्रा में ऑक्सीजन प्राप्त होता है। श्वसन से संबंधित एवं टीबी जैसे बीमारियों को दूर करने के लिए यह एक महत्वपूर्ण अभ्यास माना जाता है। इसके अलावा विलोम- अनुलोम प्राणायाम करने से भी फेफड़ों को मजबूती मिलती है। योग के लिए शांत एवं स्वच्छ वातावरण होना चाहिए।

शारीरिक और मानसिक रूप से शांति के लिए योगाभ्यास की महत्वपूर्ण भूमिका: डीपीएम
जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम अरविंद कुमार सिंह ने बताया कि जिला मुख्यालय स्थित सदर अस्पताल सहित जिले के सभी रेफरल अस्पताल, स्मुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, एपीएचसी के अलावा हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर योग दिवस मनाया जाएगा।

शरीर और मन की शांति के लिए योग बहुत ही जरूरी विकल्प के रूप में सामने आया है। योगाभ्यास करने मात्र से आपका शरीर पूरी तरह से स्वस्थ रहता है। साथ ही योग से मानव जीवन पर सकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है।

प्रतिदिन योग करने से शारीरिक और मानसिक बीमारियां दूर होती है। बढ़ते तनाव को कम करने और लाइफ स्टाइल से पैदा होने वाली विभिन्न तरह की समस्याओं को योगाभ्यास करने से दूर किया जा सकता है।

योग करने से शरीर को मजबूती के साथ ही शारीरिक और मानसिक ऊर्जा में वृद्धि भी होती है। वहीं योग करने वाले लोग पूरी तरह से फिट होने के साथ ही इम्यूनिटी के मामले में भी दूसरे लोगों से बेहतर स्वस्थ्य होते हैं। इसी को देखते हुए बाकी लोगों ने भी खुद के स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए योग करना शुरू किया है।

0Shares
A valid URL was not provided.