इम्यूनिटी बढ़ाने में भी लाभकारी एलोवेरा, रोगों से लड़ने की क्षमता रखता है

इम्यूनिटी बढ़ाने में भी लाभकारी एलोवेरा, रोगों से लड़ने की क्षमता रखता है

कोरोना काल से भारत की आयुर्वेद शक्ति का लोहा पूरी दुनिया ने माना है। अगर बात अपने देश की करें तो शायद ही कोई घर होगा जहां काढ़ा, गिलोय और च्यवनप्राश का लोगों ने सेवन न किया हो। कोरोना काल में ही आयुर्वेद की असली ताकत को लोगों ने पहचाना है। इस वजह से अब लोगों का झुकाव भी इस ओर होने लगा है। इसलिए आज एक ऐसे ही आयुर्वेदिक तत्व के बारे में जानते हैं, जिसका नियमित सेवन न सिर्फ हमें कई बीमारियों से दूर रखेगा बल्कि चेहरे पर निखार और त्वचा के लिए भी काफी उपयोगी है।
 
200 से अधिक रोगों का निदान संभव
 
ग्वारपाठा, घीकवार और एलोवेरा (घृतकुमारी) बहुत ही काम की चीज हैं। आयुर्वेद में महत्वपूर्ण औषधि के रूप में इस्तेमाल होने वाले एलोवेरा से दो सौ से अधिक रोगों का निदान संभव है। विटामिन ए, सी और ई काफी मात्रा में पाए जाने के कारण यह सभी हेल्दी सेल ग्रोथ को प्रमोट करते हैं और बालों को चमकदार बनाता है। यह पेट की बीमारियों को दूर करने के साथ ही शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है।
 
पोषक तत्वों और मिनरल्स से भरपूर एलोवेरा
 
एलोवेरा में विटामिन ए, सी, ई, फॉलिक एसिड, कोलीन, बी1, बी2, बी3 और बी6 पाया जाता है। करीब 20 प्रकार के मिनरल्स जिनमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक, क्रोमियम, सेलेनियम, सोडियम, आयरन, पोटैशियम, कॉपर और मैंगनीज शामिल हैं। बॉडी को तकरीबन 22 एमिनो एसिड्स की जरूरत होती है, जिनमें 8 बहुत ही जरूरी होते हैं। अकेले 18-20 एमिनो एसिड्स और 8 जरूरी एसिड्स एलोवेरा में पाए जाते हैं।  कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ, शरीर को एल्कलाइज रखता है, स्किन के लिए फायदेमंद, बॉडी की इम्यूनिटी बढ़ाता है, सूजन कम करने में कारगर, मोटापा कम करने में फायदेमंद है।

इससे वात और कफ दोष के कारण होने वाले सिरदर्द से आराम मिलता है। इसके जेल को आंखों में लगाने पर लालिमा खत्म होती है। यह विषाणु से होने वाले आखों के सूजन (वायरल कंजक्टिवाइटिस) में लाभदायक होता है। कान दर्द में भी एलोवेरा से लाभ मिलता है। एलोवेरा के रस को हल्का गर्म करके जिस कान में दर्द हो रहा है, उसके दूसरी तरफ के कान में दो-दो बूंद डालने से कान के दर्द में आराम मिलता है।
 
खांसी में देता है राहत
 
खांसी-जुकाम में भस्म तैयार कर पांच ग्राम की मात्रा में मुनक्का के साथ सुबह-शाम सेवन करें। इससे पुरानी खांसी और जुकाम में लाभ होता है। यह अपच जैसी बीमारी को दूर करने में भी सहायक है। एलोवेरा की 10-20 ग्राम जड़ को उबाल लें। इसे छानकर भुनी हुई हींग मिला लें। इसे पीने से पेट दर्द में आराम मिलता है। एलोवेरा के 6 ग्राम गूदा और 6 ग्राम गाय का घी, 1 ग्राम हरड़ चूर्ण और 1 ग्राम सेंधा नमक लें। इसे मिलाकर सुबह-शाम खाने से वात विकार से होने वाले गैस की समस्या ठीक होती है।
 
लीवर से संबंधित बीमारियों में भी देता है राहत
 
दो भाग एलोवेरा के पत्तों का रस और एक भाग शहद लेकर उसे चीनी मिट्टी के बर्तन में एक सप्ताह रखने के बाद सेवन करने पर लीवर से संबंधित बीमारियों में लाभ होता है। 5-10 ग्राम एलोवेरा जेल में चीनी मिलाकर खाने से पेशाब में दर्द और जलन से आराम मिलता है। इसके अलावा यह मधुमेह रोग में भी काफी फायदेमंद है। मासिक धर्म को भी नियंत्रित करता है।

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें