पुण्यतिथि विशेष: यादों के झरोखों में बहुमुखी प्रतिभा के धनी ऋषि कपूर

पुण्यतिथि विशेष: यादों के झरोखों में बहुमुखी प्रतिभा के धनी ऋषि कपूर

ऋषि कपूर को गुजरे एक साल हो चुका है, लेकिन दर्शकों के जहन में आज भी उनकी यादें ताजा हैं। ऋषि कपूर ने 30 अप्रैल, 2020 को इस दुनिया को अलविदा कह दिया था।  बॉलीवुड में ‘चिंटू’ के नाम से मशहूर अभिनेता ऋषि कपूर आज हमारे बीच बेशक नहीं हैं, लेकिन फिल्मों में अपनी खूबसूरत मुस्कराहट और रोमांटिक किरदारों से उन्होंने हर किसी को अपना दीवाना बना दिया था।
ऋषि कपूर का जन्म 4 सितम्बर 1952 को मुंबई में हुआ था। ऋषि कपूर फिल्म निर्देशक और अभिनेता राजकपूर के बेटे हैं। उनकी प्रारंभिक पढ़ाई मुंबई के ही कैंपियन स्कूल में हुई थी। इसके बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई मेयो कॉलेज अजमेर से पूरी की। ऋषि कपूर फिल्मी परिवार से ताल्लुक रखते थे। जिसके कारण उनकी रुचि शुरू से ही फिल्मों में रही। अपने पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए उन्होंने भी फिल्मों में अभिनय  को अपना करियर चुना।
ऋषि कपूर ने बॉलीवुड में अपने अभिनय की शुरुआत 1970 में आई फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ से की। इस फिल्म में उन्होंने राज कपूर के बचपन का किरदार निभाया था।  इसके बाद 1973 में आई फिल्म ‘बॉबी’ से ऋषि ने बतौर अभिनेता अपने अभिनय की शुरुआत की। इस फिल्म में उनके अपोजिट अभिनेत्री डिम्पल कपाड़िया थी।  इस फिल्म में ऋषि को उनके शानदार अभिनय के लिए  फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
इसके बाद ऋषि की फिल्म आई ‘जहरीला इंसान’। इस फिल्म में उनके साथ मुख्य भूमिका में थी अभिनेत्री नीतू सिंह, जो आगे चलकर उनकी जीवनसंगिनी बनी। शूटिंग के दौरान ऋषि अक्सर नीतू को छेड़ते रहते थे, जिससे वह अक्सर नाराज हो जाया करती थी। धीरे- धीरे उनकी तकरार दोस्ती में बदल गई। हालांकि यह फिल्म फ्लॉप रही ,लेकिन इस फिल्म ने ऋषि और नीतू के दिलों को मिला दिया था।  दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया था और 1980 में दोनों ने शादी कर ली। ऋषि कपूर और नीतू कपूर के दो बच्चे बेटा रणवीर कपूर और बेटी रिद्धिमा कपूर साहनी है।
ऋषि कपूर ने अपनी ज्यादातर फिल्मों में रोमांटिक हीरो का किरदार निभाया हैं। जिसे दर्शकों ने बहुत पसंद किया। लेकिन साल 2012 में जब  फिल्म अग्निपथ रिलीज हुई तो इस फिल्म में ऋषि के दमदार खलनायक की भूमिका में उनके अभिनय ने सबको हैरान कर दिया। इस फिल्म में ऋषि कपूर के साथ ऋतिक रोशन,संजय दत्त और प्रियंका चोपड़ा भी थी। इस फिल्म में ऋषि को उनके दमदार अभिनय के  लिए आइफा बेस्ट निगेटिव रोल का पुरस्कार मिला। ऋषि कपूर ने बॉलीवुड में कई हिट फिल्में दी हैं। जिसमें अमर अकबर एंथोनी, सरगम, नसीब, प्रेम रोग, कुली ,चांदनी, हिना, अग्निपथ, कपूर एंड सन्स, मुल्क, द बॉडी आदि में शानदार अभिनय किया हैं। ऋषि ने अभिनय कि दुनिया में अपना लोहा मनवाने के बाद 1998 में आई फिल्म ‘आ अब लौट चलें ‘ का निर्देशन किया।
ऋषि को 2008 में फिल्फेयर लाइव टाइम अचीवमेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।  साल  2018  ऋषि कपूर के लिए मुश्किलों से भरा रहा,लेकिन इस मुश्किल घड़ी में भी वह मुस्कुराते रहे और इसमें उनकी पत्नी ने भी उनका बखूबी साथ निभाया। दरअसल इसी साल ऋषि कपूर को पता चला था कि उन्हें  कैंसर है। जिसके बाद वह इसका इलाज करने न्यूयार्क गए और वहां 11 महीने और 11 दिनों तक न्यूयॉर्क में इलाज कराने के बाद भारत वापस लौटे थे और माना जा रहा था कि ऋषि कपूर कैंसर की जंग जीत चुके हैं। लेकिन इस साल फरवरी में फिल्म शर्माजी नमकीन वाले की शूटिंग करने के दौरान उनकी तबीयत बार -बार खराब हो रही थी। लेकिन 30 अप्रैल को ऋषि कपूर की तबीयत ज्यादा बिगड़ने के बाद उन्हें  मुंबई के सर एचएन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली।
अपनी जिंदादिली और बेबाक बयानों के कारण चर्चा में रहने वाले ऋषि कपूर के निधन ने हर किसी को अंदर तक झकझोर कर रख दिया था। ऋषि कपूर फिल्मों में अपने शानदार अभिनय के जरिये दर्शकों के दिलों में सदैव जीवित रहेंगे एवं फिल्म जगत में भी उनके सराहनीय योगदानों को हमेशा याद किया जायेगा।

 

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें