गरीब कलाकारों को मान-सम्मान और न्याय दिलाने के लिए राष्ट्रीय कलाकार महासंघ का हुआ गठन

गरीब कलाकारों को मान-सम्मान और न्याय दिलाने के लिए राष्ट्रीय कलाकार महासंघ का हुआ गठन

Chhapra: राष्ट्रीय कलाकार महासंघ के जिलाध्यक्ष राहुल कुमार सिंह ने कहा कि यह देखा जा रहा था कि कही भी कलाकारों की स्टेज पे हत्या हो जा रही थी. कहीं डांसर को गोली मारकर हत्या की जा रही हैं. कहीं भी कलाकारों को मान-सम्मान नहीं मिलती थीं तब जाके हमने सोचा की नहीं हर विभाग का न्याय के लिए ऑफिस बना हुआ हैं क्यूँ ना हम कलाकारों के लिए कुछ करें. तब हमने राष्ट्रीय कलाकार महासंघ का स्थापना किया.

उन्होने कहा कि इसमें किसी भी जाती या वर्ग के कलाकारों को बराबर का हक मिलेगा किसी भी क्षेत्र में और ये संगठन कलाकारों के हित में काम करेगी. इसका नाम राष्ट्रीय कलाकार महासंघ इसलिए पड़ा कि राष्ट्रीय का मतलब होता है राष्ट्र अथार्त भारत मतलब हम भारत वासी हैं और कलाकार का मतलब कलाकार होता हैं चाहे वो किसी फील्ड में हो और महासंघ का मतलब होता है की सिर्फ गायक या एक्टर ही नहीं तबला वाधक भी होगा मतलब सभी तरह के कलाकारों का समूह होगा। हमरी सोंच है कि गरीब कलाकारों को मान-सम्मान दिलाना न्याय दिलाना, रोजगार दिलाना, आपके हक के लिए आगे आना. बुरे समय मे साथ देना.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें