शिक्षक संघ ने गंगा सिंह महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य पर लगाए गंभीर आरोप

Chhapra: जयप्रकाश विश्वविद्यालय के गंगा सिंह महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य पर महाविद्यालय के शिक्षकों ने गंभीर आरोप लगाए हैं.

शिक्षकों की ओर से गंगा सिंह महाविद्यालय शिक्षक संघ के अध्यक्ष मो अंजर आलम ने बताया कि प्रभारी प्राचार्य के प्रशासनिक अकुशलता, तानाशाही रवैया, संक्रीर्ण सोच, हितलरवादी प्रवृति, कुप्रबंधन, प्रताड़णा और हिंसात्मक व्यवहार से स्थायी शिक्षकों के बीच भय और असुरक्षा का माहौल है. 

उन्होने कहा कि प्रभारी प्राचार्य के द्वारा पूर्वाग्रह से ग्रसित एवं विश्वविद्यालय पदाधिकारियों से बेहतर संबंध का हवाला देकर तबादला और निलंबन करा देने की धमकी दी जाती है। शिक्षकों के बायो मेट्रिक मशीन के चालू कराये जाने की मांग के बावजूद प्रभारी प्राचार्य के द्वारा इससे इंकार किया जाता है। कारण यह है कि वह खुद अनुपस्थित रह कर अगले दिन अपनी उपस्थिती बना लेते है। ऐसा कई बार किया गया है।

उन्होने बताया कि विगत आठ महीनों से विश्वविद्यालय के नियमों की अवहेलना करते हुए नियुक्ति कर उन्हे भुगतान भी किया जाता है। महाविद्यालय का रंग रोगन सामानों की ख़रीदारी के लिए राशि निकाली गयी जिसकी उच्च स्तरीय जांच की मांग की गयी है । वहीं महिला शिक्षकों के साथ प्रभारी प्राचार्य का व्यवहार असंवेदनशील और अमानवीय है। उन्हे मानसिक रूप से परेशान करने वाला है।

उन्होने कहा कि ऐसे माहौल में शिक्षकों को कार्य करने में परेशानी हो रही है। शिक्षकों ने विश्वविद्यालय से इस मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।

प्रेस वार्ता में डॉ पूजा लोहान, डॉ अभिषेक चतुर्वेदी, डॉ पुनीत कुमार पांडे, डॉ नलिन रंजन, डॉ कुमकुम, डॉ सुमनलता सिंह आदि शामिल थी।

इस मामले पर प्रभारी प्राचार्य से संपर्क करने की कोशिश की गयी लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।               

0Shares
[sharethis-inline-buttons]

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें