सारण की काशिफ़ा ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा में लहराया परचम, बिना कोचिंग के ही की तैयारी

सारण की काशिफ़ा ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा में लहराया परचम, बिना कोचिंग के ही की तैयारी

Manjhi: मांझी पश्चमी पंचायत की काशिफा शकील ने मेडिकल की राष्ट्रीय पात्रता व प्रवेश परीक्षा (यूजी) में सफलता हासिल कर पूरे जिले का नाम रौशन किया है. काशिफा को इबीसी में 139 रैंक हासिल हुआ है.

काशिफ़ा का चयन एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए हुआ है. वो मांझी के मियां पट्टी गांव निवासी शिक्षक शकील अहमद की पुत्री है. उनके इस सफलता ने पूरे जिले में उनका नाम रौशन किया है.

घर पर की तैयारी

आज के जमाने मे किसी भी प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए कोचिंग क्लासेस का ट्रेंड चल रहा है. बिना कोचिंग गये तैयारी करना, ये तो बीते जमाने की बात हो गयी है. लेकिन इन सब के विपरीत काशिफ़ा ने बिना किसी कोचिंग क्लास गये मेडिकल पात्रता परीक्षा में सफलता प्राप्त कर एक मिसाल कायम की है.

इंटर के बाद डॉक्टर बनने की हुई इच्छा

घर से लगभग डेढ़ किलोमीटर दूरी पर स्थित आदर्श मध्य विद्यालय से आठवीं तक कि पढ़ाई कर दलन सिंह उच्च विद्यालय से वर्ष 2013 में मैट्रिक के बाद मांझी इंटर कालेज से वर्ष 2015 में इंटर की पढ़ाई पूरी की. जिसके बाद उनकी डॉक्टर बनने की इच्छा जगी तो घर पर ही तैयारी कर यूजी की परीक्षा में सफलता हासिल कर ली.

माता-पिता एक ही स्कूल में शिक्षक है.

काशिफा के माता पिता स्थानीय आदर्श मध्य विद्यालय में शिक्षक हैं. उसी स्कूल से काशिफा ने पढ़ाई की है. काशिफा की तीनों छोटी बहनें भी उसी विद्यालय में पढ़ती हैं. वे भी पढ़-लिख कर डॉक्टर बनना चाहती हैं.

छपरा टुडे डॉट कॉम की खबरों को Facebook पर पढ़ने कर लिए @ChhapraToday पर Like करे. हमें ट्विटर पर @ChhapraToday पर Follow करें. Video न्यूज़ के लिए हमारे YouTube चैनल को @ChhapraToday पर Subscribe करें